News

सबरीमाला मंदिर में सभी महिलाओं को मिले प्रवेश, लेकिन में केरल कांग्रेस के साथ

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मंगलवार को सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश को लेकर चल रहे विवाद पर अपना रुख स्पष्ट करतेहु कहा कि सभी आयुवर्ग की महिलाओं को सबरीमला मंदिर में प्रवेश की अनुमति होनी चाहिए। गौरतलब है कि राहुल की यह टिप्पणी उनकी पार्टी की केरल इकाई द्वारा अपनाए गए रुख से ठीक विपरीत है। हालांकि गांधी ने माना कि इस "भावनात्मक मुद्दे" पर उनकी सोच उनकी पार्टी की केरल इकाई से अलग है।

                                                                                                Photo Source: Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (31 अक्टूबर): कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने मंगलवार को सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश को लेकर चल रहे विवाद पर अपना रुख स्पष्ट करतेहु कहा कि सभी आयुवर्ग की महिलाओं को सबरीमला मंदिर में प्रवेश की अनुमति होनी चाहिए। गौरतलब है कि राहुल की यह टिप्पणी उनकी पार्टी की केरल इकाई द्वारा अपनाए गए रुख से ठीक विपरीत है। हालांकि गांधी ने माना कि इस "भावनात्मक मुद्दे" पर उनकी सोच उनकी पार्टी की केरल इकाई से अलग है।बता दें कि उच्चतम न्यायालय ने पिछले महीने केरल के भगवान अयप्पा के मंदिर में 10 से 50 साल की महिलाओं के प्रवेश पर लगी पाबंदी हटा दी थी। उन्होंने चुनावी राज्य मध्य प्रदेश के इंदौर में चुनिंदा संपादकों और पत्रकारों से कहा, "सबरीमला मामले में मेरा निजी दृष्टिकोण यह है कि महिलाएं और पुरुष बराबर हैं। (सभी) महिलाओं को सबरीमला मंदिर में जाने की अनुमति मिलनी चाहिए।इतना ही नहीं उन्होंने ये भी कहा कि हालांकि, केरल में मेरी पार्टी का दृष्टिकोण है कि सबरीमला मंदिर मामला वहां महिलाओं और पुरुषों, दोनों के लिए एक बेहद भावनात्मक मुद्दा है।" राहुल ने कहा, "..तो मेरा निजी मत और केरल में मेरी पार्टी के विचार इस मामले में अलग-अलग हैं। मेरी पार्टी केरल में वहां के मूल निवासियों की भावनाओं का प्रतिनिधित्व करती है।"बता दें कि गांधी ने ये टिप्पणियां ऐसे दिन कीं जब भाजपा के सैकड़ों कार्यकर्ताओं ने उच्चतम न्यायालय के सबरीमला मंदिर में सभी महिलाओं के प्रवेश संबंधी आदेश को लागू करने के एलडीएफ सरकार के फैसले तथा प्रदर्शनकारियों की पुलिस द्वारा धरपकड़ के विरोध में तिरूवनंतपुरम में प्रदेश पुलिस प्रमुख के कार्यालय के सामने ‘‘भूख हड़ताल’’ की। केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने गांधी के बयान का स्वागत किया और कांग्रेस प्रदेश इकाई को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि यह ‘‘दुर्भाग्यपूर्ण’’ है कि कांग्रेस की राज्य इकाई का रुख सबरीमला मुद्दे पर अपने राष्ट्रीय नेतृत्व के रुख के अनुरूप नहीं है।आपकी जानकारी के लिए बता दें कि मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेसी नेताओं का एक धड़ा इस मुद्दे पर ‘‘रुढिवादी’’ रुख अपना रहा है जिससे केवल भाजपा को मदद मिलेगी। केरल विधानसभा में विपक्ष के नेता चेन्नीथला ने कहा कि राज्य में कांग्रेस और पार्टी नीत यूडीएफ भगवान अयप्पा के श्रद्धालुओं के साथ है जो चाहते हैं कि मासिक धर्म की आयु वाली महिलाओं और लड़कियों के प्रवेश पर पाबंदी फिर से लगे।


Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 and Download our - News24 Android App . Follow News24online.com on Twitter, YouTube, Instagram, Facebook, Telegram , Google समाचार.

Tags :

Top