News

अमित शाह को अखिलेश यादव और मायावती का जवाब

नागरिकता संशोधन कानून (CAA) पर फिलहाल सियासी घमासान थमता नहीं दिख रहा है। समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) और बीएसपी सुप्रीमो मायावती (Mayawati) ने पलटवार सीएए पर केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) की चुनौती (Challenge) को स्वीकार (Accept) करते हुए पलटवार किया है। अखिलेश यादव ने अमित शाह की चुनौती को कबूल करते हुए कहा कि जगह तय कर लीजिए

akhilesh mayawati

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (22 जनवरी): नागरिकता संशोधन कानून (CAA) पर फिलहाल सियासी घमासान थमता नहीं दिख रहा है। समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) और बीएसपी सुप्रीमो मायावती (Mayawati) ने पलटवार सीएए पर केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) की चुनौती (Challenge) को स्वीकार (Accept) करते हुए पलटवार किया है। अखिलेश यादव ने अमित शाह की चुनौती को कबूल करते हुए कहा कि जगह तय कर लीजिए, हम विकास पर बहस करने को तैयार हैं। दरअसल, मंगलवार को लखनऊ में नागरिकता संशोधन कानून के समर्थन में एक रैली को संबोधित करते हुए अमित शाह ने अखिलेश यादव, राहुल गांधी और ममता बनर्जी को सीएए पर बहस करने की खुली चुनौती दी थी। हालांकि, अखिलेश यादव ने सीएए पर नहीं, बल्कि विकास पर बहस करने की बात कही है। 

मीडिया से बात करते हुए अखिलेश यादव ने  कहा कि 'हम विकास पर बहस करने को तैयार हैं। उन्होंने आगे कहा कि याद रखिए देश बेरोजगारी में फंस गया है। इतने बड़े पैमाने पर बेरोजगारी कभी नहीं आई होगी। अगर यही हालात रहें तो बेरोजगारवाद की भी संख्या बढ़ जाएगी। अब तो किसान के बाद नौजवान भी आत्महत्या करने लगे हैं। अर्थव्यवस्था, नौकरी, नोटबंदी के सवाल पर बहस नहीं करना चाहते हैं वे, इसलिए हम चाहते हैं कि विकास पर बहस करें।' अखिलेश यादव ने आगे कहा कि मुद्दों से ध्यान भटकाने के लिए बीजेपी हिंदू-मुस्लिम के मुद्दों का इस्तेमाल कर रही है। अखिलेश यादव से पहले कांग्रेस पार्टी के नेता कपिल सिब्बल ने भी अमित शाह की चुनौती स्वीकार करते हुए कहा था कि शाह बहस के लिए किसी स्थान का चुनाव कर लें। वहीं बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने भी नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी पर अमित शाह की चुनौती को स्वीकार करते हुए ट्वीट किया है। मायावती ने लिखा है कि उनकी पार्टी बहस करने की चुनौती को किसी भी मंच पर व कहीं भी स्वीकार करने को तैयार है। मायावती ने अपने ट्वीट में लिखा की "आति विवादित CAA/NRC/NPR के खिलाफ पूरे देश में खासकर युवा व महिलाओं के संगठित होकर संघर्ष व आन्दोलित हो जाने से परेशान केन्द्र सरकार द्वारा लखनऊ की रैली में विपक्ष को इस मुद्दे पर बहस करने की चुनौती को BSP किसी भी मंच पर व कहीं भी स्वीकार करने को तैयार है।'

आपको बता दें कि गृहमंत्री अमित शाह ने मंगलवार को लखनऊ में सीएए के समर्थन में एक रैली के दौरान कहा था कि मैं डंके की चोट पर यह कह रहा हूं कि चाहे जिसे भी विरोध करना है वह कर ले, लेकिन नागरिकता संशोधन कानून वापस नहीं लिया जाएगा।'  अमित शाह ने इस भाषण के दौरान ही समाजवादी पार्टी, कांग्रेस और तृणमूल कांग्रेस को बहस की चुनौती दी थी। इस चुनौती को स्वीकार करते हुए अखिलेश ने कहा कि शाह सीएए ही नहीं, विकास के भी मुद्दे पर उनसे खुले मंच पर बहस कर लें। वह इसके लिए पूरी तरह से तैयार हैं।

(Image Credit: Google)


Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 and Download our - News24 Android App . Follow News24online.com on Twitter, YouTube, Instagram, Facebook, Telegram , Google समाचार.

Tags :

Top