News

विमान में हंगामा करने वालों के खिलाफ बने हैं ये कड़े नियम

पत्रकार अर्णब गोस्वामी Arnab Goswami के साथ विमान में बदसलूकी करने के बाद स्टैंड-अप कॉमेडियन कुणाल कामरा को इंडिगो, एअर इंडिया, स्पाइसजेट और गोएयर एयरलाइन्स ने नो फ्लाई लिस्ट में डाल दिया है। जिसके बाद इंडिगो ने जहां कामरा पर छह माह की रोक लगाई है।

मनीष कुमार, ब्यूरो रिपोर्ट नई दिल्‍ली, 29 जनवरी: पत्रकार अर्णब गोस्वामी Arnab Goswami के साथ विमान में बदसलूकी करने के बाद स्टैंड-अप कॉमेडियन कुणाल कामरा को इंडिगो, एअर इंडिया, स्पाइसजेट और गोएयर एयरलाइन्स ने नो फ्लाई लिस्ट में डाल दिया है। जिसके बाद इंडिगो ने जहां कामरा पर छह माह की रोक लगाई है, वहीं एयर इंडिया ने आगे की नोटिस तक उसकी उड़ान पर रोक लगा दी है। विमानन कंपनियों ने शिवसेना सांसद रवींद्र गायकवाड़ ने एयर इंडिया स्टाफ के साथ अभद्र व्यवहार के बाद नो फ्लाई लिस्ट जारी की थी।

उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी घटना पर संज्ञान लिया और भारत की अन्य एयरलाइंस से कामरा पर इसी तरह की पाबंदी लगाने की सलाह दी। उन्होंने कहा कि आपत्तिजनक व्यवहार जो उकसावे वाला हो और विमान के अंदर अराजकता पैदा करता हो, वह पूरी तरह से अस्वीकार्य है और हवाई यात्रा करने वाले लोगों की जिंदगियों को खतरे में डालने वाला है।

आपको बात दें कि नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने हवाई सफर करने वाले यात्रियों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए नो-फ्लाई लिस्ट जारी की थी। नो फ्लाई को जारी करने का ऐलान करते हुए ये कहा गया था कि अभद्र व्यवहार और हुड़दंग करने वाले पर कानूनी कार्रवाई के एक्शन लिया जाएगा, जिसमें हवाई यात्रा पर आजीवन बैन लगाने तक का प्रावधान है। सुरक्षा संबंधी नो-फ्लाई लिस्ट लाने वाला भारत पहला देश बन गया है। 

डीजीसीए ने जो नो फ्लाई लिस्ट तैयार की है उसके मुताबिक नो फ्लाई लिस्ट को तीन कैटगरीज में बांटा गया है। 

पहली कैटगरी - मौखिक रूप से अभद्र व्यवाहर करने वालों को 3 महीने के लिए नो-फ्लाई लिस्ट में डाला जाएगा।

दूसरी कैटगरी - शारिरिक रुप से अभद्र व्यवहार करने वाले जिसमें ( धक्का देना, लात मारना, मारना या फिर गलत तरीके से छूने) को 6 महीने तक के लिये नो फ्लाई लिस्ट में रखा जाएगा।

तीसरी कैटगरी - जान से मारने की धमकी देने वालों को कम-से कम दो साल के लिए हवाई सफर से बैन किया जा सकता है।

हर किसी पर लागू होता है नो फ्लाई लिस्ट

नो फ्लाई लिस्ट में हवाई सफर करने वाले किसी को भी डाला जा सकता है भले ही वो मंत्री, सांसद और विधायक ही क्यों ना हो। विमान के क्रू मेंबर जो यात्रियों से अभद्र व्यवहार करता है तो उसे भी नो फ्लाई लिस्ट में डाला जा सकता है। किसी को भी अपनी शिकायत विमान में मौजूद कैप्टन इन कमांड को करना होगा।

यह भी पढ़ें:- अफगानिस्तान में विमान क्रैश, फ्लाइट में सवार सभी 83 यात्रियों की मौत की आशंका

विमान में अभद्र व्यवहार करनी की शिकायत पर नो फ्लाई लिस्ट में नाम डालने पर फैसला रिटायर्ड जिला जज की अध्यक्षता वाली एक कमिटी आरोप लगने के 30 दिनों के भीतर लेगी, जिसमें एयरलाइंस का एक सदस्य और उपभोक्ता मामलों से जुड़ा एक प्रतिनिधि होगा। तबतक एयरलाइंस अपनी तरफ से उस यात्री पर 30 दिनों के लिए बैन लगा सकता है। अगर कमिटी 30 दिनों में फैसला लेने में विफल रही तो नो फ्लाई लिस्ट से नाम हट जाएगा। नो फ्लाई लिस्ट डीजीसीए के पास रहेगा जो एयरलाइंस उपलब्ध करायेगा।

अगर किसी का नाम फ्लाई लिस्ट में शामिल होता है तो वो हाईकोर्ट के रिटायर्ड जज की अध्यक्षता वाली कमिटी में 60 दिनों में अपील कर सकता है। लेकिन वो लोग अपील नहीं कर सकते हैं, जिनका नाम गृह मंत्रालय सुरक्षा कारणों से उपलब्ध करायेगा।

शिवसेना सांसद रवींद्र गायकवाड़ ने एयर इंडिया स्टाफ के साथ अभद्र व्यवहार किया था। जिसके बाद सभी घरेलू एयरलाइंस ने रवींद्र गायकवाड़ पर बैन लगा दिया था। बाद में सांसद के माफी मांगने के बाद एयरलाइंस ने बैन हटाया।


Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 and Download our - News24 Android App . Follow News24online.com on Twitter, YouTube, Instagram, Facebook, Telegram , Google समाचार.

Tags :

Top