News

ना-पाक पाखण्ड तार-तारः डल लेक के शिकारों में विदेशी राजदूतों ने की सैर

ना-पाक पाखण्ड तार-तारः डल लेक के शिकारों में विदेशी राजदूतों ने की सैर। पाकिस्तानी पाखण्ड को तार-तार करने के लिए विदेशी राजदूतों का एक और प्रतिनिधि मण्डल श्रीनगर पहुंच चुका है। अपने होटलों में चेक-इन करने के कुछ देर बाद ही विदेशी राजदूतों ने खूबसूरत डल लेक में शिकारे का लुत्फ उठाया।

Second Batch, Foreign Heads, Jammu-Kashmir, Media Political, Leaders, Locals, Civil Society

नई दिल्ली (12 फरवरी): ना-पाक पाखण्ड तार-तारः डल लेक के शिकारों में विदेशी राजदूतों ने की सैर। पाकिस्तानी पाखण्ड को तार-तार करने के लिए विदेशी राजदूतों का एक और प्रतिनिधि मण्डल श्रीनगर पहुंच चुका है। अपने होटलों में चेक-इन करने के कुछ देर बाद ही विदेशी राजदूतों ने खूबसूरत डल लेक में शिकारे का लुत्फ उठाया। लगभग एक महीने बाद आये दूसरे प्रतिनिधि मण्डल में जर्मनी, फ्रांस, चेक, पौलेण्ड, बुल्गारिया और हंगरी के राजदूत शामिल हैं। आज बुधवार की रात तक श्रीनगर में रहने के बाद यह राजदूत गुरुवार को जम्मू का दौरा करेगा। खबर लिखे जाने तक मिली जानकारी के अनुसार यह प्रतिनिधिमण्डल श्रीनगर की सिविल सोसायटी , युवाओं, धार्मिक, सांस्कृतिक और कई अन्य समुदायों के लोगों से अलग-अलग मुलाकात कर रहा है। विदेशी राजदूतों और दुनिया के सामने पाक का ना-पाक पाखण्ड एक बार फिर तार-तार हो गयाष

Second Batch, Foreign Heads, Jammu-Kashmir, Media Political, Leaders, Locals, Civil Society

 ना-पाक पाखण्ड को तार-तार करते हुए विदेशी राजनयिकों के प्रतिनिधिमणल से स्थानीय व्यापारी, राजनेता, प्रशासनिक अधिकारी और मेनस्ट्रीम मीडिया के लोग भी प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात कर रहे हैं। विदेशी प्रतिनिधियों को श्रीनगर का  दौरा कराने के पीछे सरकार का मकसद  वैश्विक स्तर पर संदेश देना है कि अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद से जम्मू-कश्मीर में हालात सामान्य हैं। लगभग पांच महीने के बाद हाल ही में जम्मू-कश्मीर में 2जी इंटरनेट सेवा बहाल कर दी गई है।

Second Batch, Foreign Heads, Jammu-Kashmir, Media Political, Leaders, Locals, Civil Society

इससे पहले जनवरी में 15 देशों के राजनयिकों का एक प्रतिनिधिमंडल दो दिवसीय दौरे पर श्रीनगर पहुंचा था। इस दौरे में भी प्रतिनिधिमंडल ने सिविल सोसायटी, स्थानीय

नेताओं और मीडिया से मुलाकात की थी। दरअसल, पाकिस्तान वैश्विक स्तर पर लगातार यह बताने की कोशिश कर रहा है कि कश्मीर में रक्तपात जारी है। पाकिस्तान के इसी दावे की पोल खोलने के लिए भारत सरकार ने जनवरी में भी विदेशी प्रतिनिधिमंडल को सच्चाई जानने का न्यौता दिया था।

Imaged Courtesy:Google


Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 and Download our - News24 Android App . Follow News24online.com on Twitter, YouTube, Instagram, Facebook, Telegram , Google समाचार.

Tags :

Top