News

पाक का नापाक चेहराः अत्याचारों से त्रस्त सिख नेता को परिवार सहित लाहौर से पड़ा भागना

पाक का नापाक चेहरा एक बार फिर सामने आया है। हिंदु लड़की के अपहरण और बलात्कार की ताजा घटना के बाद अब सिखों के कद्दावर नेता को उत्पीड़न से त्रस्त होकर पाकिस्तान से भागना पड़ा है। पाकिस्तान में सिखों के इस कद्दावर नेता का नाम राधेश सिंह है।

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (21 जनवरी): पाक का नापाक चेहरा एक बार फिर सामने आया है। हिंदु लड़की के अपहरण और बलात्कार की ताजा घटना के बाद अब सिखों के कद्दावर नेता को उत्पीड़न से त्रस्त होकर पाकिस्तान से भागना पड़ा है। पाकिस्तान में सिखों के इस कद्दावर नेता का नाम राधेश सिंह है।

राधेश को पाकिस्तानी मुस्लिमों की धमकियों से तंग आकर पहले ट्विटर छोड़ना, फिर पेशावर छोड़ना और अब लाहौर से भागकर भारत आना पड़ा है। सिख नेता राधेश सिंह परिवार उत्पीड़न से पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों के साथ हो रहे अत्याचार की एक और भयावह तस्वीर सामने आई है। पाकिस्तान में इमरान खान के दावे के विपरीत अल्पसंख्यकों का उत्पीड़न रुकने का नाम नहीं ले रहा है। यह घटना ऐसे समय में हुई है जब हाल ही में हिंदु और सिख लड़कियों के अपहरण के बाद उनका जबरन धर्मांतरण और ननकाना साहिब पर कट्टरपंथियों के हमले से पाकिस्तान चौतरफा घिरा हुआ है।

राधेश पाकिस्तान में सिखों के कद्दावर नेता माने जाते थे। राधेश 2018 के आम चुनाव में भी अपनी किस्मत आजमा चुके हैं। वह पेशावर से खड़े हुए थे जिसके बाद धमकियां मिलने का सिलसिला शुरू हो गया। नौबत यहां तक आ गई कि पहले तो उन्होंने ट्विटर छोड़ा, फिर शहर। लाहौर पहुंचने के बाद उन्होंने पुलिस से सुरक्षा की भी मांग की थी, लेकिन किसी तरह का सहयोग न मिलने पर उन्होंने आखिरकार पाकिस्तान ही छोड़ने का निर्णय लिया। राधेश ने कहा, 'अगर सिर्फ मेरी जान की बात होती तो मैं पाकिस्तान किसी भी स्थिति में नहीं छोड़ता लेकिन यह मेरे परिवार और मुझसे जुड़े लोगों की जिंदगी का भी सवाल है। ऐसी स्थिति में मेरे पास पाकिस्तान को छोड़ने के अलावा कोई विकल्प मौजूद नहीं था।'

राधेश ने बताया कि हथियारों से लैस कुछ लोगों ने उनका और उनके बेटे का पीछा किया था और फिर धमकियां दीं। उन्होंने पुलिस में शिकायत दी। राधेश इतना डरे हुए हैं कि उन्होंने अपनी शिकायत में संबंधित संगठन का नाम भी नहीं लिया, उन्हें डर है कि ऐसा करने पर उनके पीछे पाकिस्तान में मौजूद रिश्तेदारों को खतरा हो सकता है।

भारतीय सिखों ने इस घटना पर कड़ी प्रतिक्रिया दी है। अकाली दल के प्रवक्ता और दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमिटी के अध्यक्ष मनजिंदर सिंह सिरसा ने इस मामले में विदेश मंत्री एस. जयशंकर से संज्ञान लेने का अनुरोध किया है। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा कि यह दुनियाभर के सिखों के लिए बड़ी चिंता की बात है। हम सभी पाकिस्तान में अपने सिख भाइयों के साथ हैं। विडियो संदेश में उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों का क्या हाल है, राधेश सिंह टोनी सिखों के बड़े लीडर हैं। ऐसे इंसान के साथ भी इतनी ज्यादतियां की गईं कि उन्हें पाकिस्तान छोड़कर भागना पड़ा। उनके जैसे सिख और हिंदू समाज के कई लोगों को रोज पाकिस्तान में अत्याचार का शिकार होना पड़ता है।

सिखों के पवित्र धर्मस्थलों में से एक ननकाना साहिब गुरुद्वारे पर 3 जनवरी को कट्टरपंथियों ने पथराव किया था। इस दौरान वहां मौजूद भीड़ ने अल्पसंख्यकों को धमकी भी दी थी। भारत ही नहीं दुनियाभर में रह रहे सिख समुदाय के लोगों ने इस हमले की निंदा की। इस घटना का विडियो काफी वायरल हुआ था जिसके बाद मुख्य आरोपी इमरान चिश्ती को पुलिस ने अरेस्ट कर लिया था। 

Images Courtesy: Google


Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 and Download our - News24 Android App . Follow News24online.com on Twitter, YouTube, Instagram, Facebook, Telegram , Google समाचार.

Tags :

Top