News

करोना वायरस से निपटने के लिए भारत ने भी कमर कसी, अस्पताल और लैबोरेटरी तैयार

अधिकारियों ने प्रधान सचिव को भरोसा दिलाया कि संबंधित मंत्रालय इसको लेकर अलर्ट है और इससे निपटने के लिए अस्पताल से लेकर लैबोरेटरी दोनों तैयार हैं। चीन से आने वाले यात्रियों से करोना के फैलने की आशंका को देखते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय ने अडवाइजरी जारी की है

India, Requests, China, Students, Stuck, Wuhan

न्यूज़ 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (25 जनवरी): प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रधान सचिव पी के मिश्रा की अध्यक्षता में चीन में फैले करोना वायरस से निपटने की तैयारियों को लेकर उच्चस्तरीय बैठक की है। करोना वायरस से चीन में 41 लोगों की मौत हो चुकी है। बैठक में मौजूद अधिकारियों ने प्रधान सचिव को भरोसा दिलाया कि संबंधित मंत्रालय इसको लेकर अलर्ट है और इससे निपटने के लिए अस्पताल से लेकर लैबोरेटरी दोनों तैयार हैं।  चीन से आने वाले यात्रियों से करोना के फैलने की आशंका को देखते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय ने अडवाइजरी जारी की है। वहीं, उड्डयन मंत्रालय के निर्देश पर अब तक 7 अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर लैंड हुए 115 विमानों के 20,000 यात्रियों की स्क्रीनिंग की गई है।

उधर, प्रधान सचिव मिश्रा को बैठक के दौरान अधिकारियों ने मौजूदा घटनाक्रमों और करोना वायरस के संबंध में उठाए गए कदमों व तैयारियों की जानकारी दी। स्वास्थ्य व परिवार कल्याण मंत्रालय ने प्रधान सचिव को बताया कि वायरस से निपटने के लिए अस्पतालों तैयार हैं और नैशनल इंस्टिट्यूट ऑफ वायरोलोजी को उपकरणों से लैस कर दिया गया है। वहीं, सभी राज्यों और जिले के स्वास्थ्य अधिकारियों को अलर्ट पर रखा गया है।

बैठक में कैबिनेट, रक्षा, गृह, रक्षा, स्वास्थ्य और नागरिक उड्डयन मंत्रालय के सचिव और अन्य शीर्ष अधिकारी मौजूद थे। अधिकारियों ने पी के मिश्रा को भरोसा दिलाया कि स्वास्थ्य व परिवार कल्याण मंत्रालय ने विभिन्न केंद्रीय मंत्रालयों, राज्य सरकारों और केंद्र शासित प्रदेशों ने करीब नजर बना रखी है। इसके अलावा भारत सरकार ने भारत ने चीन से अनुरोध किया है कि वुहान में फंसे 250 भारतीय छात्रों को शहर छोड़ने की इजाजत दी जाए। बता दें कि वुहान करोना वायरस का संक्रमण का मुख्य केंद्र है। माना जाता है कि भारत के करीब 700 छात्र वुहान और आसपास के इलाकों में स्थित यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे हैं, जिनमें अधिकतर मेडिकल के छात्र हैं।प्रशासन ने किसी के भी वुहान छोड़ने पर रोक लगा दी है। इस शहर की आबादी 1.1 करोड़ है। शहर में करीब 1300 लोगअधिकतर भारतीय छात्र चीनी नववर्ष की छुट्टियों की वजह से अपने घर चले आये हैं लेकिन 250-300 छात्र अब भी शहर में हैं। इसके अलावा भारतीय छात्रों के माता-पिता के लिए तेजी से फैलता वायरस चिंता का सबब बना हुआ है। 23 जनवरी को शहर को सील करने से पहले कुछ छात्र नगर छोड़ने में कामयाब रहे थे।

Images Courtesy: Google


Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 and Download our - News24 Android App . Follow News24online.com on Twitter, YouTube, Instagram, Facebook, Telegram , Google समाचार.

Tags :

Top