भारतीय एजेंसियों ने आतंकी मास्टर माइंड हाफिज सईद का किया पर्दाफाश, मुंह दिखाने काबिल नहीं रहेगा पाकिस्तान

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (9 फरवरी): भारतीय एजेंसियों ने आतंक के आका हाफिज सईद के ऊपर एकऔर फंदा कस दिया है। अब तक भारतीय एजेंसियों के शिकंजे में हाफिज सईद के कई पियादे फंस चुके हैं। अब उसकी कमर तोड़ने की सबी तैयारियां  मुकम्मल कर ली गयी हैं। हाफिज सईद अभी तक सांप्रदायिक भावनाएं भड़का कर भारत में आतंक का खेल खेलने वाला मुंबई हमले का मास्टर माइंड हाफिज सईद अब हवाला के जरिए अपने पियादों को पैसा भेजने के गोरखधंधे में शामिल हो गया है। हाफिज सईद अपने एनजीओ फलाह-ए-इंसानियत के मार्फत भारत में हवाला का धंधा करता है। भारत के प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने हाफिज और उसके एनजीओ के खिलाफ हवाला का यह मामला राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) की एफआईआर के आधार पर दर्ज किया गया है। ईडी ने कहा है कि संगठन मनी लॉन्ड्रिंग के जरिए धन का इस्तेमाल भारत में आतंक को बढ़ावा देने में कर रहा है। भारतीय एजेंसियों ने आतंकियों को वित्तीय मदद देने वाले एनजीओ का  इस बार ऐसा  पर्दाफाश  किया है जिससे पाकिस्तान अब दुनिया में कहीं भी मुंह दिखाने काबिल नहीं बचेगा।

एनआईए ने हाफिज सईद और उसके एनजीओ फलाह-ए-इंसानियत के खिलाफ गैर कानूनी गतिविधि रोकथाम कानून (यूएपीए) के तहत पिछले साल सितंबर में दर्ज की थी। एनआईए ने चार दर्जन से अधिक सिम कार्ड, फोन और एक करोड़ छप्पन लाख रूपये जब्त किये थे। इस मामले में अब तक चार लोगों को गिरफ्तारी हो चुकी है। 

एनआईए ने फलाह-ए-इंसानियत से जुड़े संदिग्ध आतंकी मोहम्मद सलमानको गिरफ्तार कर 1.5 करोड़ की नेपाली करंसी और 43 हजार रुपये के भारतीय मुद्रा के साथ गिरफ्तार किया गया था। उसके पास भी 14 मोबाइल और 5 पेन ड्राइव मिलीं थीं। गिरफ्तार आतंकी मोहम्मद सलमान दुबई में रहने वाले एक पाकिस्तानी को रिपोर्ट करता था। दुबई में रहने वाला शख्स हाफिज सईद को भारत में आतंकी गतिविधियां चालने का निर्देश हासिल करता था। मास्टर माइंड आतंकी हाफिज सईद का एनजीओ का हेडक्वार्टर पाकिस्तान के लाहौमें है। इसके संबंध अन्य आतंकी संगठनों से भी हैं और कश्मीर में भी इसका अच्छा-खासा दखल है। 

हाफिज सईद, अमेरिका के भी मोस्ट वांटेड आतंकियों की सूची में शामिल है। अमेरिका ने हाफिज सईद की गिरफ्तारी पर दस  मिलियन डॉलर के ईनाम का ऐलान भी कर रखा है। अंतर्राष्ट्रीय दबाव के चलते तत्कालीन नवाज शरीफ सरकार ने हाफिज सईद को गिरफ्तारी के बाद नजरंबद कर दिया था, लेकिन 297 दिन बाद उस पर लगे सभी आरोप अदालत से वापस ले लिए और उसे खुला छोड़ दिया। रिहा होने के बाद हाफिज सईद अब और भी छद्म रूप से आतंक को बढ़ावा देने में जुट गया है।