News

ताले में कैद हुए करोड़ों रुपये से बने शौचालय, लोग खुले में शौच जाने को हुए मजबूर

राजधानी के विभिन्न इलाकों में स्थित निगम के मॉड्यूलर शौचालय पिछले 10 महीने से ताले में कैद हैं। ऐसे में राजधानीवासियों को काफी फजीहत झेलनी पड़ रही है। लोग जहां-तहां मूत्र त्याग कर रहे हैं। इससे राजधानी में गंदगी फैल रही है।

Tolits शौचालय

Image Source Google

सौरभ कुमार, न्यूज 24 ब्यूरो, पटना(13 दिसंबर):  राजधानी पटना (Patna) के विभिन्न इलाकों में स्थित निगम के मॉड्यूलर शौचालयों (Toilets) 10 महीने से ताले में कैद हैं। ऐसे में राजधानी वासियों को काफी फजीहत झेलनी पड़ रही है। लोग जहां-तहां मूत्र त्याग कर रहे हैं। इससे पटना (Patna) में गंदगी फैल रही है। कोई सड़क के किनारे तो कोई फुटपाथ पर और तो और कुछ लोग बंद शौचालय के बाहर ही शौच करने को मजूबर हैं।

छह फरवरी को हुआ था उद्घाटन

बिहार सरकार ने पटना नगर निगम द्वारा 60 जगहों पर 120 पब्लिक टॉयलेट का निर्माण कराया गया है। इनका उद्घाटन छह फरवरी को मेयर सीता साहू ने किया था। एक टॉयलेट में 1 शौचालय बनाने में ढेर लाख रुपये का खर्च हुआ है और 120 शौचालय में 1 करोड़ 80 लाख रुपये ... ये पूरी तरह से मॉड्यूलर शौचालय है ... अंदर अच्छी सीट,पानी का इन्तजाम, बेसिन के साथ साथ ऊपर टँकी की भी व्यवस्था की गई है।

उद्घाटन के बाद मात्र 10 दिन में बंद हुआ ताला

शौचालय के उद्घाटन के कुछ दिनों तक सबकुछ ठीक चला। लेकिन एक पखवारे के बाद ही राजधानी के विभिन्न इलाकों में स्थित मॉड्यूलर शौचालयों की स्थिति सफाई को लेकर गड़बड़ होने लगी। कहीं नल गायब है तो कहीं पानी नहीं है। सबसे ज्यादा जरूरी चीज सफाई भी ठीक तरह से नहीं होती। 

लोगों की मजबूरी खुले में शौच 

120 शौचालय पिछले 10 महीने से बंद है, जो पहले शौचालय थे उसको सरकार ने तोड़ दिया जो नए है। उन सभी मे ताले बन्द है अब लोगों के सामने मजबूरी है कि वो जाए तो जाए कहां मजबूरी में लोग खुले में शौच और पेशाब करने को विवश है।

केवल रखरखाव के कारण बंद है शौचालय

सरकार द्वारा पटना में 120 शौचालय बना गये और बहुत उत्साह के साथ उद्घाटन किया गया, लेकिन 10 दिन में ही ताला लग गया। वजह थी की शौचालयों के आसपास गंदगी इकट्ठा होने लगी थी। चारो तरफ गन्दगी फैलने लगी। नल खराब होने लगे जो एजेंसी मेंटेनेंस के काम को देख रही थी उसके हाथ खड़े कर दिए। केंद्र और राज्य की सरकार लगातार बिहार में स्वच्छता अभियान की बात करती है। पीएम मोदी और बिहार के कई केंद्रीय मंत्री हाथ में झाड़ू लेकर कई बार सड़क पर उतर चुके हैं, लेकिन लगता है कि पटना से ना तो केन्द्र सरकार और ना ही बिहार सरकार को कोई लेना देना है, जिसका खामियाजा आम लोगों को भुगतना पड़ रहा है। 


Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 and Download our - News24 Android App . Follow News24online.com on Twitter, YouTube, Instagram, Facebook, Telegram .

Tags :

Top