News

मंत्रालयों का बंटवाराः शिवसेना को गृह NCP को वित्त और कांग्रेस के हाथ आया राजस्व

महाराष्ट्र में मंत्रालयों (Ministries) के बंटवारे (Distribution) में शिवसेना (Shivsena) को गृह (Home) कांग्रेस को राजस्व (Revenue), तो वहीं एनसीपी हिस्से में वित्त जैसा महत्वपूर्ण मंत्रालय मिला है।

Maharashtra, Ministries, Distribution, Shivsena, Home, NCP, Rvenue, Cong, Finance

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (12 दिसंबर): महाराष्ट्र में मंत्रालयों (Ministries) के बंटवारे (Distribution)  में शिवसेना (Shivsena) को गृह (Home)  कांग्रेस को राजस्व (Revenue), तो  वहीं एनसीपी हिस्से में वित्त जैसा महत्वपूर्ण मंत्रालय मिला है। महा विकास अघाड़ी में मंत्रालयों को लेकर पिछले 15 दिन से कवायद चल रही थी जो गुरुवार को जाकर पूरी हुई।

शिवसेना ने  पार्टी के सीनियर नेता एकनाथ शिंदे को गृह मंत्री बनाया गया है। इसके अलावा उन्हें शहरी विकास, पर्यावरण, पीडब्ल्यूडी, टूरिजम और संसदीय कार्य मंत्री बनाया गया है। शिंदे के साथ ही पार्टी के सुभाष देसाई को इंडस्ट्री, उच्च और तकनीकी शिक्षा, खेल और युवा, रोजगार मंत्री बनाया गया है।

गठबंधन में अहम भूमिका रखने वाली शरद पवार की राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी को वित्त मंत्रालय सौंपा गया है। पार्टी के सीनियर नेता जयंत पाटिल को वित्त मंत्री का पद सौंपा गया है। उन्हें इसके अलावा हाउसिंग, खाद्य आपूर्ति और मजदूर मंत्रालय भी सौंपा गया है। उनके अलावा सीनियर नेता छगन भुजबल को ग्रामीण विकास, सामाजिक न्याय, जल संसाधन और राज्य आबकारी मंत्री बनाया गया है।

इसे भी देखेंः उद्धव ने कसा तंज तो फड़णवीस ने शायरी से दिया करारा जवाब, सदन में खूब थपथपाई गयीं मेजें

वहीं, 44 विधायकों वाली कांग्रेस को राजस्व और महिला एवं बाल कल्याण मंत्रालय मिला है। पार्टी के सीनियर नेता बालासाहेब थोराट को राजस्व, स्कूली शिक्षा, पशुपालन एवं मत्स्य पालन और नितिन राउत को पीडब्ल्यूडी आदिवासी विकास, अन्य पिछड़ा वर्ग विकास, महिला एवं बाल कल्याण, राहत एवं पुर्नस्थापन मंत्रालय मिला है।

पहले ऐसे कयास लगाए जा रहे थे कि पिछले महीने बीजेपी की तीन दिन की सरकार में देवेंद्र फड़णवीस के साथ उपमुख्यमंत्री बने एनसीपी के अजित पवार को उद्धव ठाकरे की अगुवाई वाली नई सरकार में वित्त मंत्री बनाया जा सकता है। वहीं, एनसीपी के जयंत पाटिल को उपमुख्यमंत्री के साथ ही गृह मंत्री बनाए जाने की खबरें थीं लेकिन उन्हें वित्त मंत्रालय मिला।

अस्थायी समझौते के अनुसार, 56 विधायकों वाली शिवसेना को 10 पोर्टफोलियो, 54 विधायकों वाली एनसीपी को 7 मंत्री और एक उपमुख्यमंत्री का पद मिलने की अटकलें थीं। माना जा रहा है कि कांग्रेस के 44 विधायक हैं और उसे स्पीकर के साथ ही 6 मंत्री पद दिए जा सकते हैं। गठबंधन में प्रत्येक दल की राजनीतिक जरूरतों और इच्छा को ध्यान में रखकर पोर्टफोलियो में साझेदारी तय की जा रही है।

Images Courtesy: Google


Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 and Download our - News24 Android App . Follow News24online.com on Twitter, YouTube, Instagram, Facebook, Telegram .

Tags :

Top