Blog single photo

कश्मीर के हालात पर सुप्रीमकोर्ट बेहद संवेदनशील, सीजेआई ने उठाया अब तक का सबसे बड़ा कदम

सीजेआई रंजन गोगोई कश्मीर को लेकर बेहद संवेदनशील हैं। बालअधिकारों को लेकर की गई एक याचिका की सुनवाई पर उन्होंने जम्मू-कश्मीर के हाईकोर्ट से रिपोर्ट तलब की है। उन्होंने याचिकाकर्ता के वकील से

प्रभाकर मिश्रा, न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (16 सितंबर): जम्‍मू-कश्‍मीर में अनुच्‍छेद 370 में बदलाव और उसके बाद के हालात पर हो रही सुनवाई के दौरान बालअधिकार सामाजिक कार्यकर्ता की  याचिका पर सुनवाई करते हुए सीजेआई रंजन गोगोई  बेहद संवेदनशील नजर आये। सीजेआई ने कहा कि अगर लोगों को उच्च न्यायालय के समक्ष अपील करने  में मुश्किल आ रही है तो ये मामला गंभीर है। इस बारे मैं खुद  फोन पर हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस से बात करूंगा और अगर इससे भी बात नहीं बनी तो मैं खुद जाऊँगा और वहां का  जायजा लूंगा। दरअसल ये मामला बच्‍चों के शोषण से जुड़े मामले की सुनवाई का था। इसमें याचिकाकर्ता वकील ने आरोप लगाया है कि कश्‍मीर में बंद के चलते वकील हाईकोर्ट नहीं पहुंच पा रहे हैं।सुप्रीम कोर्ट ने जम्मू-कश्मीर हाईकोर्ट के न्यायाधीश से भी इस आरोप पर रिपोर्ट मांगी है कि लोगों को हाईकोर्ट से संपर्क करने में मुश्किलों का सामना करना पड़ा रहा है। मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने याचिकाकर्ता के वकील से  कहा, अगर लोग उच्च न्यायालय से संपर्क करने में असमर्थ हैं तो यह बेहद गंभीर है, मैं खुद श्रीनगर जाऊंगा।  सीजेआई ने याचिकाकर्ता के वकील से कहा कि अगर आपका दावा गलत निकला तो इसका परिणाम भी आपको भुगतना होगा।"इसके अलावा सुप्रीम कोर्ट ने  फारुख अब्‍दुल्‍ला को हिरासत में रखे जाने पर पर कोर्ट ने 30 सितंबर तक केंद्र से जवाब मांगा है। एक अन्य याचिका की सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता गुलाम नबी आजाद को  श्रीनगर और बारामूला जाने की अनुमति देदी है। हालांकि सीजेआई रंजन गोगोई ने कहा, इस दौरान वह किसी भी तरह का सार्वजनिक भाषण या रैली नहीं करेंगे।Images Courtesy: Google

Tags :

NEXT STORY
Top