प्रोटेम स्पीकर के खिलाफ कांग्रेस की याचिका सुप्रीम कोर्ट से रजिस्ट्रार के पास पहुंची

नई दिल्ली (18 मई): कर्नाटक में पिछले कई दिनों से जारी सियासी घमासान थमने का नाम नहीं ले रहा है। अब प्रोटेम स्पीकर का विवाद सुप्रीम कोर्ट की चौखटल पर पहुंच गया है। कांग्रेस ने केजी बोपैय्या की प्रोटेम स्पीकर बनाए जाने का विरोध करते हुए सुप्रीम कोर्ट में अर्जी दी है। कांग्रेस ने सुप्रीम कोर्ट से आज रात ही इसपर सुनवाई की अपील की है। कांग्रेस की ये अर्जी सुप्रीम कोर्ट के रजिस्ट्रार के पास पहुंच चुकी है। अब देखना दिलचस्प होगा की कांग्रेस की अर्जी का सुप्रीम कोर्ट आज रात सुनवाई करती है या नहीं।इससे कांग्रेस की तरफ से रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कांफ्रेंस करते हुए कहा कि सबसे वरिष्‍ठतम विधायक ही प्रोटेम स्पीकर बनाए जाते है। बीजेपी संविधान की अवहेलना कर रही है, लिहाजा़ इस परंपरा को कायम रखना जरूरी है। रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि राज्यपाल वजुभाई बाला ने फिर से संविधान का एनकाउंटर कर दिया। उन्होंने दागी और सिर्फ 3 बार के विधायक केजी बोपैय्या को प्रोटेम स्पीकर बना दिया। ये अमित शाह और नरेंद्र मोदी के इशारे पर है। इसके लिए सुप्रीम कोर्ट जाने के सभी विकल्प खुले हैं।2011 में सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि बोपैय्या को संविधान में विश्वास नहीं है। सुप्रीम कोर्ट ने बालचंद्र झारखियोली बनाम बीएस येदियुरप्पा 2011 मामले में बोपैय्या की भर्तस्ना की थी। कहा था कि ऐसा लगता है कि स्पीकर बोपैय्या येदियुरप्पा को मुख्यमंत्री बनाने के लिए बेसब्र हैं। ऐसे आदमी को प्रोटेम स्पीकर बनाया गया है।