VIDEO: रमजान के दौरान J&K में सीजफायर को मंजूरी, सुरक्षाबल नहीं चलाएंगे ऑपरेशन

नई दिल्ली (16 मई): रमजान के दौरान जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबल आतंकियों के खिलाफ अपना ऑपरेशन नहीं चलाएंगे। मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती की मांग पर केंद्र सरकार ने सहमति जताते हुए राज्य में रामजान के दौरान आतंकियों खिलाफ अपने ऑपरेशन का रोकने का ऐलान किया है। हालांकि केंद्र सरकार ने साफ किया है कि अगर इस दौरान अगर कोई आतंकी हमला होता है तो सामान्य नागरिकों की जान बचाने के लिए सुरक्षाबलों को कार्यवाई का अधिकार होगा। साथ ही सेना की सामान्य पेट्रोलिंग भी जारी रहेगी। सरकार का यह फैसला एलओसी पर लागू नहीं होगा।

सरकार ने अपने इस बड़े फैसले के साथ उम्मीद जताई है कि इससे मुस्लिम भाई-बहन बिना किसी तकलीफ के रमजान मना सकें। केंद्र सरकार की ओर से कहा गया है कि उन लोगों की पहचान करना जरूरी है जो हिंसा और आतंक सहारा लेकर इस्लाम को बुरा बनाते हैं। केंद्र सरकार के 'सीजफायर' के फैसले का मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने स्वागत किया है। महबूबा मुफ्ती ने ट्वीट किया है कि 'रमजान में सीफायर के फैसले का मैं दिल से स्वागत करती हैं और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री राजनाथ सिंह को धन्यवाद देना चाहती हूं। सर्वदलीय बैठक में हिस्सा लेने वाले सभी नेताओं और पार्टियों के प्रति भी मैं आभार व्यक्त करती हूं।'मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने सभी दलों की बैठक बुलाकर केंद्र से घाटी में रमजान और अमरनाथ यात्रा के लिए एकतरफा सीजफायर की मांग की थी। इस बैठक के बाद सीएम महबूबा मुफ्ती ने कहा, 'हम सभी को भारत सरकार से अपील करनी चाहिए कि रमजान के मुबारक मौके पर और अमरनाथ यात्रा की शुरुआत पर जैसे साल 2000 वाजपेयी जी ने सीजफायर किया था उसी तरह का कोई कदम उठाए। इससे आम लोगों को थोड़ी रिलीफ मिले। इस वक्त जो एमकाउंटर हो रहे हैं, सर्च ऑपरेशन हो रहे हैं, उसमें आम लोगों को बहुत तकलीफ हो रही है। हमें ऐसे कम उठाने चाहिए जिससे लोगों का विश्वास बहाल हो।'ज्यादा जानकारी के लिए देखिए न्यूज 24 की ये खास रिपोर्ट...