आत्मघाती हमले पर ईरान का पाकिस्तान का जवाब, चुकानी पड़ेगी भारी कीमत

                                                                         Photo:Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (17 फरवरी): ईरान के रिवाल्यूशनरी गार्ड्स ने पाकिस्तान पर अपने सैनिकों पर हुए आत्मघाती बम हमले के गुनाहगारों को समर्थन देने का आरोप लगाया है। ईरान के सरकारी टीवी पर जारी बयानों में यह बात कही गई है। बुधवार को हुए उस हमले में ईरान रिवोल्यूशनरी गार्ड्स के 27 सैनिकों की मौत हो गई गई थी।

रिवोल्यूशनरी गार्ड्स कमांडर मेजर जनरल मोहम्मद अली जाफरी ने जिहादी समूह जैश-अल-अद्ल की ओर इशारा करते हुए कहा, 'पाकिस्तान सरकार जानती है कि ये जिहादी और इस्लाम के लिये खतरा बने लोग कहां है, इन्हें पाकिस्तान के सुरक्षा बलों का समर्थन हासिल है।' जनरल ने यह बात शुक्रवार को इ्स्फहान शहर में मारे गए सैनिकों के लिये आयोजित श्रद्धांजलि सभा के दौरान कही। आपको बता दें कि दक्षिण पूर्वी ईरान में रेवोल्यूशनरी गार्ड्स की बस पर आत्मघाती कार हमले में 27 सैनिकों की मौत हो गई थी। हाल के वर्षों में यह एलीट बलों पर सबसे खतरनाक हमलों में से एक है। यह हमला ऐसे समय में हुआ है जब सैनिक सीमा पर गश्त अभियान से लौट रहे थे।

आधिकारिक आईआरएनए समाचार एजेंसी ने कहा, 'इस्लामिक रेवोल्यूशनरी गार्ड्स कोर पर आत्मघाती हमला खाश-जाहेदन रोड पर हुआ।' गार्ड्स ने बताया ,बस के पीछे विस्फोटकों से भरी कार में विस्फोट हुआ।

इसके साथ ही भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज भी बुल्गारिया जाने के दौरान तेहरान में थोड़ी देर के लिए रुकीं। उन्होंने  ईरान के उप-विदेश मंत्री अब्बास आराघची से मुलाकात कर पुलवामा हमले में पाकिस्तान की संलिप्तता का मुद्दा उठाया। ईरान हाल में खुद पाक समर्थित आतंकवाद का शिकार रहा है और वो भारत के दृष्टिकोण से पूरी तरह सहमत है। जिसके बाद ईरान के विदेश मंत्री ने एक ट्वीट भी किया और कहा कि हम और भारत दोनों आतंकवाद से परेशान है। हम मिलकर आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई लडेंगे। अब बहुत हो चुका है।