Blog single photo

ऐतिहासिक: मात्र 23 दिन में रेप के दोषी फांसी की सजा

इंदर में 4 महीने की बच्ची के साथ रेप और हत्या के दोषी को कोर्ट ने फांसी की सजा सुनाई है। कोर्ट ने महज 23 दिन में कार्रवाई पूरी करते हुए आरोपी को फांसी की सजा सुनाई है।

इंदौर (13 मई): इंदर में 4 महीने की बच्ची के साथ रेप और हत्या के दोषी को कोर्ट ने फांसी की सजा सुनाई है। कोर्ट ने महज 23 दिन में कार्रवाई पूरी करते हुए आरोपी को फांसी की सजा सुनाई है। पूरा मामला 20 अप्रैल है, जब इंदौर के राजबाड़ा क्षेत्र में 25 साल आरोपी नवीन मां के पास सो रही चार माह की बच्ची को उठाकर ले गया और उसके साथ दुष्कर्म करके हत्या कर दी।जज ने 7 दिन तक लगातार सात-सात घंटे इस केस को अच्छे से सुना और घटना के 21वें दिन सुनवाई पूरी होने के बाद 23वें दिन शनिवार को फैसला सुनाया। 51 पेज के फैसले में जज ने लिखा 'आरोपी ने तीन महीने 4 दिन की अबोध बालिका के साथ बलात्कार के बाद जिस विभत्सता और निर्ममतापूर्वक उसकी हत्या कर दी, यह एक व्यक्ति के खिलाफ नहीं, बल्कि पूरे समाज के खिलाफ अपराध है। जिस तरह चिकित्सक द्वारा किसी रोगी के शरीर के गैंगरीन प्रभावित हिस्से को ऑपरेशन के जरिये अलग कर दिया जाता है, उसी तरह ऐसे अपराधी से समाज को बचाने के लिये उसे समाज से बिल्कुल अलग करना आवश्यक है। ऐसा व्यक्ति समाज के लिये घातक है।'बताया जा रहा कि नवीन गाड़के पर जुर्म साबित करने के लिये अभियोजन पक्ष ने अदालत के सामने 29 गवाह पेश किये। इनमें जघन्य वारदात की शिकार बालिका के माता-पिता के साथ मुजरिम की पत्नी शामिल हैं। मामले में जिस व्यक्ति को मौत की सजा सुनायी गयी है, वह शख्स कोई और नहीं बल्कि जघन्य वारदात की शिकार बालिका का दूर का रिश्तेदार है।बताया जा रहा है कि गाड़के की पत्नी उसे छोड़ कर चली गयी थी। वह 19 अप्रैल की रात बच्ची की मां के पास पहुंचा और अपनी पत्नी से समझौता कराने की जिद को लेकर उससे विवाद करने लगा। उसे किसी तरह वहां से भगा दिया गया। गाड़के ने उनके बगल में सो रही बच्ची को 20 अप्रैल को तड़के अगवा कर लिया, जब उसके परिजन गहरी नींद में थे।वारदात की शिकार बच्ची के परिजन गुब्बारे बेचकर गुजारा करते हैं। घटना के वक्त वे ऐतिहासिक राजबाड़ा महल के सामने अपने परिवार के साथ खुले में सो रहे थे। सीसीटीवी के फुटेज से मिली जानकारी के मुताबिक "अपहरण के बाद गाड़के सोती बच्ची को अपने कंधे पर डालकर निकला ताकि लोगों को शक ना हो सके। फिर वह उसे करीब 50 मीटर दूर स्थित वाणिज्यिक इमारत के तलघर में ले गया।"  बलात्कार के बाद गाड़के ने बच्ची का मुंह दबाने के साथ जमीन पर जोर से पटक कर उसे जान से मार डाला था। बच्ची की लाश 20 अप्रैल की दोपहर बरामद की गयी थी।

Tags :

NEXT STORY
Top