Blog single photo

इमरान सरकार में अल्पसंख्यकों पर बढ़े अत्याचार- हिंदुओं से फिर वसूला जाने लगा जजिया

तालिबान के लिए काम करने वाले लोग जो पहले अल्पसंख्यकों से जजिया वसूलते थे वो फिर से एक्टिव हो गए हैं। इसकी शुरुआत उन्होंने की है पेशावर ,ननकाना साहिब ओर पंजा साहिब से यहां से जबरदस्ती गुण्डा टैक्स

विशाल अंग्रीश,  न्यूज 24 ब्यूरो, चंडीगढ़ (16 सितंबर): कंगाली की मार झेल रहे पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों को जिंदा रहने के लिए जजिया देना पड़ रहा है। सबसे पहले इसकी शुरुआत की गई है पेशावर से। पेशावर के कई इलाकों में में तालिबान के लिए काम करने वाले लोग जो पहले अल्पसंख्यकों से जजिया वसूलते  थे वो फिर से एक्टिव हो गए हैं। इसकी शुरुआत उन्होंने की है पेशावर ,ननकाना साहिब ओर पंजा साहिब से यहां से जबरदस्ती गुण्डा टैक्स वसूला जा रहा है।

सिंध में मंदिर की तोड़ फोड़ ही नही की गई बल्कि एक हिन्दू टीचर की पिटाई ओर दो लड़कियों को भी उठाया गया है यह कहना है पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान की पार्टी के पूर्व एमपी ए. बलदेव सिंह का जिसने यह सनसनीखेज आरोप पाकिस्तान पर लगाये हैं।

बलदेव सिंह ने कहा कि पेशावर के बाड़ा इलाके में तालिबान के लोगों ने जबरदस्ती डरा धमका कर भत्ता जिसको आम बोलचाल की भाषा में गुंडा टैक्स कहा जाता है वह लेना शुरू कर दिया है। यह ननकाना साहब और पंजा साहब में भी शुरू हो गया है। वहां पर अपना कारोबार करने वाले अल्पसंख्यकों से 5000 से 10000 तक यह जजिया टैक्स लिया जाता है। पहले यह बंद कर दिया गया था और अब यह शुरू हो गया है। तीन चार साल पहले जोगा सिंह गुरुद्वारा साहब में उसने इस तरह की चिट्ठियां भी देखी थीं। 

बलदेव सिंह ने कहा कि दिल्ली में रहने वाले पेशावर के लोगों से कोई भी जाकर पूछ सकता है कि वहां पर किस तरह से डरा धमका कर जजिया वसूल किया जा रहा है और यदि कोई जजिया नहीं देता तो उसको इलाके से बाहर कर दिया जाता है और जबरदस्ती उसके साथ मारपीट भी की जाती है। स्थानीय पुलिस प्रशासन को सब कुछ पता होता है लेकिन वो इन जजिया वसूलने वालों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं करते, बल्कि अगर कोई हिंदु शिकायत लेकर जाता है उसी को मार-पीटकर जेल में बंद कर दिया जाता है।Images Courtesy: Google

Tags :

NEXT STORY
Top