बेरोजगारों को मोदी सरकार दे रही है घर बैठे 25 हजार रुपये महीना कमाने का मौका, जल्दी करें आवेदन

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (9 जुलाई):  बेरोजगारों को घर बैठे रोजगार और भत्ता देने का मोदी सरकार का वादा अब परवान चढ़ने की कगार पर है। सरकार की योजना ऐसी है कि किसी भी बेरोजगार को काम करने या खोजने के लिए कहीं बाहर भी नहीं जाना होगा। सरकार की यह पहली योजना है जन औषधि केंद्र की। देशभर में सस्ती दवाओं की योजना जनऔषधि केंद्र की सफलता को देखते हुए सरकार ने अब कस्बे कस्बे तक इसे पहुंचाने की योजना बनाई है। केंद्रीय रसायन एवं उर्वरक राज्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने सभी लोकसभा सदस्यों से कहा है कि वे अपने संसदीय क्षेत्रों में ब्लॉक स्तर पर जन औषधि केंद्र खुलवाने के लिए पहल करें। जिससे युवा बेराजगार इसके लिए आवेदन करें और सरकार उनके नजदीकी क्षेत्रों में ब्लॉक स्तर पर जन औषधि केंद्र खुलवा सके।

मनसुख मंडाविया ने बताया कि  पहली कैटेगरी के तहत कोई भी व्यक्ति, बेरोजगार फार्मासिस्ट, डॉक्टर, रजिस्टर्ड मेडिकल प्रैक्टिशनर केंद्र खोल सकता है जन औषधि केंद्र खोल सकता है। दूसरी श्रेणी  के तहत ट्रस्ट, एनजीओ, प्राइवेट हॉस्पिटल, सोसायटी और सेल्फ हेल्प ग्रुप को जनऔषधि केंद्र खोलने का अवसर दिया जायेगा। इसके अलावा राज्य सरकार भी किसी एजेंसी या समूह या संस्था को जन औषधि केंद्र खोलने के लिए नामित कर सकती है।

जन औषध केंद्र खोलने के लिये सरकार द्वारा ढाई लाख रुपये की सहायता दी जायेगी। जनऔषधि केंद्र पर उपलब्ध दवाओं को  20 फीसदी मार्जिन पर बेचा जायेगा। यह मार्जिन विक्रेता की ही होगा। इसके अलावा हर महीने की बिक्री पर अलग से 15 फीसदी इंसेंटिव मिलेगा।इंसेंटिव की अधिकतम सीमा 10 हजार रुपये प्रति माह होगी।इंसेंटिव तब तक मिलेगा, जब तक कि 2.5 लाख रुपये पूरे न हो जाएं। नक्सल प्रभावित और नॉर्थ ईस्ट के राज्यों में इंसेंटिव की अधिकतम सीमा 15 हजार रुपये प्रति माह हो जाएगी।वहीं, कमजोर तबके के आवदेनकर्ता को 50 हजार रुपये की दवा एडवांस में बेचने के लिए दे दी जाएगी।

जनऔषधि केंद्र के जरिए महीने में जितनी दवाओं की बिक्री होगी, उसका 20 फीसदी कमिशन के रूप में मिलेगा।इस लिहाज से अगर आपने महीने में 1 लाख रुपये की भी बिक्री की तो आपको उस महीने 20 हजार रुपये की इनकम हो जाएगी।ट्रेड मार्जिन के अलावा सरकार मंथली सेल्स पर 15 फीसदी इंसेंटिव देगी, जो आपके बैंक अकाउंट में आ जाएगा। मंडाविया ने बताया कि आवेदक के पास रिटेल ड्रग सेल्स का लाइसेंस जन औषधि केंद्र के नाम से तथा मेडिकल स्टोर खोलने के लिए 120 वर्गफुट एरिया में दुकान होनी जरूरी है। आवेदक के नाम से आधार कार्ड और पैन कार्ड तथा संस्थान, एनजीओ, हॉस्पिटल, चैरिटेबल संस्था को आवेदन करने के लिए आधार कार्ड, पैन कार्ड, पंजीयन प्रमाण पत्र देना होगा।

जनऔषधि केंद्र खोलेने के लिए सरकार की वेबसाइट  जनऔषधि डॉट जीओवी डॉट आईएन (janaushadhi.gov.in) पर जाकर फार्म डाउनलोड कर के भेजा जा सकता है।

Images Courtesy:Google