Blog single photo

यूरोपीय शहरों की तरह होंगी दिल्ली की सड़कें, सीएम ने 9 सड़कों के री-डिजाइन को दी मंजूरी

अगले एक साल में दिल्ली की 9 सड़कें आपको यूरोप के बड़े शहरों की तरह खुबसूरत दिखेंगी। जिससे दिल्ली की सड़कें भी दुनिया के अन्य देशों की राजधानी की सड़कों

वरुण सिन्हा, न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली(22 अक्टूबर): अगले एक साल में दिल्ली की 9 सड़कें आपको यूरोप के बड़े शहरों की तरह खुबसूरत दिखेंगी, जिससे दिल्ली की सड़कें भी दुनिया के अन्य देशों की राजधानी की  सड़कों की तरह खुबसूरत हो सकें। इसके लिए मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के निर्देश पर पीडब्ल्यूडी के अधिकार क्षेत्र में आने वाली 9 सड़कों का री-डिजाइन किया जाएगा। पहले इन 9 सड़कों को पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर री-डिजाइन किया जाएगा। जिससे इन सड़कों पर जाम खत्म होंगे। साथ ही दुर्घटना की समस्या न हो। इस प्रोजेक्ट के तहत पहले चरण में 45 किलोमीटर सड़क को री-डिजाइन किया जाएगा। इसपर चार सौ करोड़ खर्च किया जाएगा। इससे दिल्ली की सड़कें पहली बार आधुनिक डिजाइन व प्लान से विकसित हो सकेंगी। 

सड़कों से कई समस्याएं हो जाएंगी खत्म 

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि सड़कों के री-डीजाइन से बाटलनेक खत्म होंगे। अभी कोई सड़क चार लेन से तीन लेन की हो जाती है या छह लेन से चार लेन की हो जाती है। इससे अचानक सड़क पर एक जगह दबाव बनता है और जाम लग जाता है। नई  डिजाइन में इसे खत्म किया जाएगा।  इससे जाम लगना खत्म हो जाएगा। सड़क व सड़क किनारे या आस-पास की सड़कों का स्पेस खत्म किया जाएगा। इसका बेहतर इस्तेमाल होगा। फुटपाथ, नाँन मोटर वाइकल के लिए स्पेस बनाया जाएगा। कम से कम 5 फुट के फूटपाथ वअधिकतम 10 फुट का किया जाएगा। दिव्यांग के हिसाब से फूटपाथ को डिजाइन किया जाएगा। जिससे सड़क एक जैसी दिखे। साथ ही दिव्यांगों को परेशानी न हो।  

हरियाली को बढ़ाया जाएगा, नालों में री-हार्वेस्टिंग सिस्टम लागू होगा

अभी सड़कों के किनारे हरियाली का दायरा बहुत कम है। नई  री-डिजाइन में फुटपाथ पर पेड़ के लिए जगह होगी। साथ ही ग्रीन बेल्ट के लिए जगह होगा। आटो व ई रिक्शा के लिए अलग से स्पेस व स्टैंड होगा। सड़क के स्लोप व नालों को री-डिजाइन व री-कंस्ट्रक्ट किया जाएगा। नालों के अंदर री-हार्वेस्टिंग सिस्टम होंगे। सड़क के स्लोप को ठीक किया जाएगा। जिससे बरसात के पानी को जमीन में री-चार्ज किया जाएगा। स्ट्रीट फर्नीचर लगेंगे। जंक्शन को ठीक किया जाएगा। सड़क पर कोई ओपन स्पेस नहीं होगा। सड़क किनारे घास लगेगा या पेड़ लगेगा। सड़कों को री-सर्फेश किया जाएगा।  

घास लगा सड़कों से खत्म किया जाएगा धूल

सड़क के आस-पास एक इंच जमीन भी खाली नहीं होगी। जिससे सड़कों पर धूल बिल्कुल न हो। अभी सड़कों पर धूल उड़ने की समस्या है, जिससे लोगों को बेहद समस्या होती है। सड़कों के री-डिजाइन में सड़क की एक इंच जमीन भी खाली नही होगी। खाली जमीन पर ग्रीन बेल्ट या घास होगा। जिससे सड़कें सुंदर दिखें। साथ ही धूल उड़ने की समस्या बिल्कुल न हो। 

यह सुविधाएं भी होंगी

- रिक्शा के लिए पार्किंग 

- पार्किंग के लिए स्थान चिंहित

 

- ग्रीन बेल्ट

 

- पब्लिक ओपन स्पेश

 

- साइकिल लेन

- पैदल पाथ लेन

- सड़क की दीवारों पर विभिन्न तरह की डिजाइन का डिस्प्ले होगा।

- सड़क के बगल में पार्क होगा तो उसे दीवार से ढका नहीं जाएगा। जिससे सड़क किनारे से पार्क व्यू हो सके। 

इन 9 सड़कों का होगा निर्माण

 

1- वजीरपुर डिपो से रीठाला मेट्रो स्टेशन

2 - बिटानिया चौक से आउटर रिंग रोड़ वेस्ट एन्क्लेव पीतमपुरा

3 - शिवधापुरी मार्ग और पटेल रोड़ 

4- विकास मार्ग, लक्ष्मी नगर से कड़कड़ी मोड़ 

5- निर्माणा रोड मदर डेरी से पंचमहल 

6 - रिंग रोड, मायापुरी से मोतीबाग जंक्शन

7- रिंग रोड़, एम्स से आश्रम 

8 - अंबेडकर नगर से डिफेंस कालोनी फ्लाईओवर 

9 - आउटर रोड, निगम बोध घाट से मैग्जिन रोड क्राँसिंग 

तीन सड़कों का वर्क आर्डर जारी 

रिंग रोड़, एम्स से आश्रम का वर्क आर्डर सोमवार को जारी हो गया है। विकास मार्ग, लक्ष्मी नगर से कड़कड़ी मोड़ और  निर्माणा रोड मदर डेरी से पंचमहल के निर्माण का आर्डर मंगलवार को जारी हो गया। अन्य 6 सड़कों का वर्क आर्डर 15 नवंबर तक जारी कर दिया जाएगा। इन सभी सड़कों का निर्माण कार्य 1 साल में पूरा कर लिया जाएगा।

Tags :

NEXT STORY
Top