News

कांग्रेस आज मना रही है स्थापना दिवस, ऐसे आस्तित्व में आया चुनाव चिन्ह 'पंजा'

देश की सबसे पुरानी पार्टी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का आज यानी 28 दिसंबर को स्थापना दिवस है। इसकी स्थापना 72 प्रतिनिधियों की उपस्थिति में 28 दिसंबर 1885 को बॉम्बे के गोकुलदास तेजपाल

Photo: Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (28 दिसंबर): देश की सबसे पुरानी पार्टी भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का आज यानी 28 दिसंबर को स्थापना दिवस है। इसकी स्थापना 72 प्रतिनिधियों की उपस्थिति में 28 दिसंबर 1885 को बॉम्बे के गोकुलदास तेजपाल संस्कृत महाविद्यालय में हुई थी। इसे स्थापित करने वालों में ए ओ ह्यूम, दादा भाई नौरोजी और दिनशा वाचा थे। कांग्रेस पार्टी आज दिल्ली में राहुल गांधी के नेतृत्व में स्थापना दिवस मना रहा है। इसके साथ ही सभी प्रदेशों में अलग-अलग नेताओं के नेतृत्व में झंडा फहराएगी और अपना स्थापना दिवस मना रही है।

कांग्रेस पार्टी देश की सबसे पुरानी पार्टी है। आज कांग्रेस का चुनाव चिन्ह हाथ है, लेकिन इससे पहले यह कभी दो बैलों की जोडी, कभी चरखा तो कभी गाय बछड़ा हुआ करता था। पार्टी को वर्तमान चुनाव चिन्ह यानि हाथ किसकी देन है, यह बहुत कम ही लोग जानते हैं। देश की सबसे पुरानी पार्टी का लोगो दिवंगत प्रधानमंत्री इन्दिरा गांधी को तत्कालीन कांची कामकोटि पीठ के शंकराचार्य स्वामी चन्द्रशेखरेन्द्र सरस्वती का आशीर्वाद है। कहा जाता है कि श्रीमती गांधी के गर्दिश के दिनों में शंकराचार्य से आर्शीवाद लेने गयीं थी, उनके आशीर्वाद ने उस समय श्रीमती गांधी की सत्ता में न केवल वापसी करायी थी बल्कि कांग्रेस को फिर से पुराने वजूद में खड़ा करने में अहम भूमिका निभायी थी।

लम्बे समय तक दो बैलों की जोड़ी कांग्रेस का चुनाव चिन्ह रहा। वर्ष 1969 में पार्टी विभाजन के बाद चुनाव आयोग ने इस चिन्ह को जब्त कर लिया। कामराज के नेतृत्व वाली पुरानी कांग्रेस को तिरंगे में चरखा जबकि नयी कांग्रेस को गाय व बछडे का चुनाव चिन्ह मिला। वर्ष 1977 में आपातकाल समाप्त होने के बाद कांग्रेस की बदहाली शुरू हुई। इसी दौर में चुनाव आयोग ने गाय बछड़े के चिन्ह को जब्त कर लिया। रायबरेली में करारी हार के बाद सत्ता से बाहर हुई कांग्रेस के हालात देखकर पार्टी प्रमुख इन्दिरा गांधी काफी परेशान हो गयीं। परेशानी की हालत में श्रीमती गांधी तत्कालीन शंकराचार्य स्वामी चन्द्रशेखरेन्द्र सरस्वती का आशीर्वाद लेने पहुंची।

इंदिरा गांधी की बात सुनने के बाद पहले तो शंकराचार्य मौन हो गए, लेकिन कुछ देर बाद उन्होंने अपना दाहिना हाथ उठाकर आर्शीवाद दिया तथा हाथ का पंजा पार्टी का चुनाव निशान बनाने को कहा। उस समय आंध्र प्रदेश समेत चार राज्यों का चुनाव होने वाले थे। श्रीमती गांधी ने उसी वक्त कांग्रेस आई की स्थापना की और आयोग को बताया कि अब पार्टी का चुनाव निशान पंजा होगा। शंकराचार्य के आर्शीवाद के बाद कांग्रेस पुनर्जीवित हो गयी तथा चार राज्यों के चुनाव में कांग्रेस की जोरदार जीत हुई।


Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 and Download our - News24 Android App . Follow News24online.com on Twitter, YouTube, Instagram, Facebook, Telegram .

Tags :

Top