पंजाब: जुलाई से गरीबों को मिलेगी चीनी व चाय पत्ती, कैप्टन अमरिंदर सिंह ने मेनिफेस्टो में किया था वादा

नई दिल्ली (08 जून): पंजाब विधानसभा चुनाव के दौरान प्रदेश वासियों से किए गए वादे को पूरा करने के लिए कैप्टन सरकार चीनी व चाय पत्ती योजना शुरू करने जा रही है।

पंजाब सरकार जुलाई से गरीबों में चीनी व चाय पत्ती योजना शुरू करने जा रही है। कैप्टन अमरिंदर सिंह ने चुनाव से पहले अपने मेनिफेस्टो में इसका वादा किया था। साल 2018-19 के बजट में हालांकि इस योजना के लिए धन का प्रावधान नहीं है, लेकिन खाद्य एवं आपूर्ति विभाग ने प्रस्ताव वित्त मंत्रलय को भेज दिया है।

योजना के तहत परिवार के हर सदस्य को 20 ग्राम चाय पत्ती जबकि हर परिवार को एक कि.ग्रा. चीनी सबसिडी पर उपलब्ध कराएंगी। खाद्य एवं आपूर्ति विभाग की डायरैक्टर आनंदिता मित्र ने बताया कि स्मार्ट कार्ड राशन स्कीम (आटा-दाल योजना) के तहत राज्य सरकार ने पिछले बजट में 500 करोड़ रुपए रिजर्व रखे थे। इसके तहत चाय पत्ती, चीनी, आटा और दाल का वितरण किया जाना था लेकिन सरकार सिर्फ गेहूं का ही वितरण कर सकी है।

इसके बाद सरकार ने लाभार्थियों को आधार से लिंक करने का फैसला लिया। पंजाब मंत्रिमंडल इस योजना को पहले ही मंजूरी दे चुका है क्योंकि यह घोषणापत्र का हिस्सा है। चाय पत्ती और चीनी के लिए पनसप को नोडल एजैंसी के तौर पर चुना गया है। चाय पत्ती और चीनी के मूल्य निर्धारित करने के लिए जल्द ही विभागीय बैठक होगी क्योंकि विभाग ने पहले ही इस मद में 50 फीसदी सबसिडी का प्रस्ताव रखा है।