News

Tax Saving: 10.50 लाख की आय बना सकते हैं टैक्स फ्री, जानें कैसे

अब इनकम टैक्स सेविंग (Income Tax Saving) का समय चल रहा है। ऐसे में करदाता (Taxpayer)को आस रहती है कि किसी तरह उसे टैक्स में थोड़ी बहुत छूट मिल जाए, जिसके लिए वह विकल्पों को तलाश रहे हैं। अगर आप सैलरीड क्लास हैं और आपने होम (Home Loan) लोन

Income Tax, इनकम टैक्स

Image Source Google

नई दिल्ली, 12 फरवरी: अब इनकम टैक्स सेविंग (Income Tax Saving) का समय चल रहा है। ऐसे में करदाता (Taxpayer)को आस रहती है कि किसी तरह उसे टैक्स में थोड़ी बहुत छूट मिल जाए, जिसके लिए वह विकल्पों को तलाश रहे हैं। अगर आप सैलरीड क्लास हैं और आपने होम (Home Loan) लोन ले रखा है तो यह भी टैक्स (Tax) बचाने में मददगार है। अकेले एक होम लोन (Home Loan) के जरिए आप सालाना 10.50 लाख रुपये तक की आय को टैक्स फ्री (Tax Free) बना सकते हैं।

जानें तरीका 

50000 रु का स्टैंडर्ड कटौती

हर सैलरीड क्लास करदाता के लिए 50 हजार रुपये के स्टैंडर्ड डिडक्शन का प्रावधान है। यह एक फ्लैट डिडक्शन है, जिसे करदाता की कुल आय में से घटा दिया जाता है। स्टैंडर्ड डिडक्शन को बजट 2018 में दोबारा लाया गया और बजट 2019 में इसकी लिमिट को 40000 से बढ़ाकर 50000 रुपये कर दिया गया।

मूलधन पर 1.5 लाख रुपये तक तक ले सकते हैं छूट

लोन के मूलधन यानी प्रिंसिपल अमाउंट पर आयकर कानून 1961 के सेक्शन 80C के तहत टैक्स कटौती का नियम है। करदाता इस सेक्शन में मैक्सिमम 1.5 लाख रुपये सालाना तक का कटौती क्लेम कर सकता है। लेकिन इसके लिए शर्त यह है कि जिस घर के लिए होम लोन लिया गया है और यह डिडक्शन क्लेम किया जा रहा है, उसे खरीदे जाने के 5 साल तक बेचा नहीं जा सकता. अगर मालिक ऐसा करता है तो घर की बिक्री वाले साल में सभी पुराने डिडक्शन उसकी आय में जोड़ दिए जाएंगे।

सेक्शन 24:  होम लोन के 2 लाख रु तक के ब्याज पर छूट

होम लोन पर चुकाए जाने वाले ब्याज पर टैक्स डिडक्शन का फायदा आयकर कानून 1961 के सेक्शन 24 के तहत आवासीय संपत्ति से हेड ऑफ इनकम के अंतर्गत मिलता है। इसे सेक्शन के अंतर्गत होम लोन के ब्याज पर मैक्सिमम 2 लाख रुपये तक का टैक्स डिडक्शन क्लेम किया जा सकता है।

सेक्शन 80EEA: 1.5 लाख रु तक की अतिरिक्त छूट

बजट 2019 में एलान किया गया कि नए सेक्शन 80EEA के जरिए 1 अप्रैल 2019 से 31 मार्च 2020 तक लिए गए होम लोन के ब्याज पर करदाता 1.5 लाख रुपये तक का अतिरिक्त टैक्स डिडक्शन क्लेम कर सकेंगे। अब बजट 2020 में घोषणा की गई है कि मार्च 2021 तक लोन लेने वाले भी इस नए सेक्शन का फायदा ले सकते हैं. यह सेक्शन 24 के तहत 2 लाख रुपये तक के डिडक्शन के अलावा होगा। यानी सेक्शन 24 और सेक्शन 80EEA को मिलाकर होम लोन के ब्याज पर कुल 3.5 लाख रुपये तक का टैक्स डिडक्शन क्लेम किया जा सकेगा, लेकिन सेक्शन 80EEA के तहत अतिरिक्त डिडक्शन क्लेम करने के लिए कुछ शर्तें लागू हैं।

लोन दिए जाने वाली तारीख तक करदाता के नाम पर कोई आवासीय संपत्ति नहीं होनी चाहिए।

खरीदे जाने वाले घर की स्टैंप ड्यूटी वैल्यू 45 लाख रुपये से ज्यादा नहीं होनी चाहिए।

आवासीय संपत्ति का कारपेट एरिया दिल्ली NCR समेत अन्य मेट्रो शहरों में 645 वर्ग फुट और अन्य शहरों में 968 वर्ग फुट से ज्यादा नहीं होना चाहिए।


Get Breaking News First and Latest Updates from India and around the world on News24. Follow News24 and Download our - News24 Android App . Follow News24online.com on Twitter, YouTube, Instagram, Facebook, Telegram , Google समाचार.

Tags :

Top