बिहार क्रिकेट टीम का 18 साल का वनवास हुआ खत्म, रणजी में खेलने का रास्ता हुआ साफ

नई दिल्ली (1 मई): बिहार के क्रिकेट प्रेमी और क्रिकेट खिलाड़ियों के लिए अच्छी खबर है। बिहार क्रिकेट टीम का 18 साल का वनवास खत्म होने जा रहा है। अगर सबकुछ ठीक रहा तो बिहार क्रिकेट टीम सितंबर से रणजी ट्रॉफी, विजय हजारे ट्रॉफी और सैयद मुश्‍ताक अली ट्रॉफी खेलती नजर आएगी। BCCI ने इस सिलसिले में ड्राफ्ट संविधान सुप्रीम कोर्ट को सौंप दिया। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि इसी साल सितंबर से सभी टूर्नामेंट में बिहार की टीम खेलेगी। इसके बाद बिहार की टीम का रणजी और दूसरे अन्य घरेलू क्रिकेट मैच खेलने का रास्ता भी साफ हो गया है।

दरअसल सुप्रीम कोर्ट क्रिकेट एसोसिएशन ऑफ बिहार की याचिका पर सुनवाई कर रहा था, जिसमें BCCI पदाधिकारियों पर अदालत की अवमानना का मामला चलाने की मांग की गई है। याचिका में कहा गया है कि चार जनवरी को सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया था कि बिहार को भी रणजी व अन्य प्रतियोगिताओं में हिस्सा लेने की इजाजत दी जाए, लेकिन BCCI ने विजय हजारे ट्रॉफी और IPL में बिहार के खिलाड़ियों को शामिल नहीं किया।