Blog single photo

पाकः हिंदु प्रिंसिपल पर कथित ईश निंदा के आरोप, घर से हिंदुओं का निकलना मुश्किल

पाकिस्तान के सिंध प्रांत में हिंदू बस्ती पर कट्टरपंथियों के हमले के बाद दंगे भड़क गए। यहां घोटकी टाउन में कट्टरपंथी मुसलमानों ने हिंदुओं पर जमकर अत्याचार किया। उन्मादी भीड़ ने हिंदू समुदाय के

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली(16 सितंबर): पाकिस्तान के सिंध प्रांत में हिंदू बस्ती पर कट्टरपंथियों के हमले के बाद दंगे भड़क गए। यहां घोटकी टाउन में  कट्टरपंथी मुसलमानों ने हिंदुओं पर जमकर अत्याचार किया।  उन्मादी भीड़ ने हिंदू समुदाय के घरों, दुकानों, स्कूलों और मंदिरों में भी जमकर तोड़फोड़ की। हिंदु महिलाओं और लड़कियों के साथ ज्यादती की भी खबरें हैं, मगर कट्टरपंथी मुसलमानों के डर से किसी ने पुलिस में शिकायत भी दर्ज नहीं करवाई है। हिंदुओं पर अत्याचार की शुरुआत  एक मुस्लिम छात्र की शिकायत से हुई। इस छात्र ने अपने हिंदू प्रिंसिपल पर आरोप लगाया था कि उन्होंने ईशनिंदा की है। इसी बात पर कट्टरपंथी आगबबूला हो गए और हिंदुओं पर हमला बोल दिया।

सत्तारूढ़ पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के सांसद रमेश कुमार वांकवानी ने मीडिया को फोन पर बताया कि 13 साल के एक छात्र ने अपने प्रिंसिपल नोतन दास के कथित तौर पर ईशनिंदा करने की शिकायत अपने माता-पिता से की थी। इसके एक दिन बाद हिंसा भड़क उठी। छात्र के पिता अब्दुल अजीज राजपूत की शिकायत पर सिंध पब्लिक स्कूल के प्रिंसिपल के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।

बच्चे की बातें सुन उसके पिता कट्टरपंथी मुस्लिम लीडर अब्दुल हक के पास गए जो सिंध में हिंदू लड़कियों के जबरन धर्मांतरण कराने में शामिल रहा है। उसने मस्जिदों से बच्चे के आरोप को बढ़ा-चढ़ाकर प्रचारित कर दिया। वांकवानी ने बताया कि घटना के बारे में लाउडस्पीकर से प्रचारित करने के बाद ही मुस्लिम समुदाय के लोग भड़क गए। हिंदू नेता ने बताया कि कट्टरपंथियों की भीड़ ने संत सच्चो सतराम दास मंदिर पर हमला कर दिया और उसे काफी नुकसान पहुंचाया।

राजपूत का दावा है कि शिक्षक ने पैगंबर साहब के खिलाफ अपमानजनक टिप्पणी कर ईशनिंदा की। स्कूल के प्रिंसिपल के खिलाफ मामला दर्ज होने के बाद घोटकी जिले में बड़े पैमाने पर प्रदर्शन हुए। 

प्रदर्शनकारियों ने प्रिंसिपल नोतन दास की गिरफ्तारी की मांग की। इसके बाद ऐडिशनल इंस्पेक्टर जनरल ऑफ पुलिस जमील अहमद ने कहा कि पुलिस ने आरोपी को सुरक्षा के लिए हिरासत में ले लिया है। उन्होंने ट्वीट किया कि आरोपी प्रिंसिपल अब पुलिस की हिरासत में है।

पाकिस्तान मानवाधिकार आयोग ने प्रदर्शनकारियों द्वारा स्कूल में तोड़फोड़ किए जाने से संबंधित एक विडियो साझा करते हुए हालात पर गंभीर चिंता जताई है। मानवाधिकार संगठन ने एक ट्वीट में कहा, ‘घोटकी में ईशनिंदा के आरोपों की खबरें चिंताजनक हैं।’ घोटकी के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक फारुख लंजार ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि पुलिस क्षेत्र में कानून एवं व्यवस्था की स्थिति को नियंत्रित करने की कोशिश कर रही है।

Images Courtesy: Google

Tags :

NEXT STORY
Top