अमेठी में बच्चों के साथ खिलवाड़, अलग संस्थान में शिफ्ट करने के लिए किया जा रहा मजबूर

Image Source Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली(20 जुलाई): अमेठी में बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ करने का मामला सामने आया है, जिसके चलते बच्चों ने धरना प्रदर्शन शुरू कर दिया है यहां पर संस्थान के द्वारा बच्चों को जबरदस्ती संस्थान का आदेश मानने के लिए मजबूर किया जा रहा है। कहा जा रहा है कि अगर तुम लोग नहीं मानोगे तो हमारे पास और भी रास्ते हैं इस तरह से उनको धमकाया जा रहा है, जिससे बच्चे आंदोलित हो गए हैं और न्याय की मांग कर रहे हैं। बता दें पूरा मामला अमेठी जिला के तिलोई तहसील स्थित फुरसतगंज के फुटवियर डिजाइनिंग एंड डेवलपमेंट इंस्टीट्यूट एफडीडीआई से जुड़ा हुआ है, जहां पर लगभग 80 बच्चे आंदोलित हैं सुबह से धरना प्रदर्शन कर रहे हैं क्योंकि इन बच्चों ने विभिन्न ट्रेड में इस इंस्टिट्यूशन में पढ़ने के लिए अपना एडमिशन लिया था। 

इंस्टीट्यूट अब यह कहकर अपना पल्ला झाड़ रहा है कि यहां पर संबंधित बच्चे कम होने के चलते आप लोगों की क्लासें यहां नहीं चलेंगी अब आपको चंडीगढ़ शिफ्ट किया जाएगा, जिसको लेकर बच्चों और उनके अभिभावकों में खासा रोष व्याप्त है। बच्चों का कहना है कि हमने यहां पढ़ने के लिए प्रवेश दिलाया था कहीं और जाने पर हम लोगों का खर्चा अधिक हो जाएगा और वह सुविधाएं भी नहीं मिल पाएंगी ऐसे में हम लोग कहीं नहीं जाएंगे। हम लोगों को यहीं पर रखा जाए और हमारी पढ़ाई यहीं पर की जाए बच्चों का कहना है कि जब यह गवर्नमेंट इंस्टिट्यूट है तो इसको प्राइवेट के तरीके से क्यों चलाया जा रहा है अपने हिसाब से सीटें बढ़ाई जा रही हैं। काउंसलिंग के समय बताया जा रहा था कि 30 सीटें हैं उसके बाद आ जाओ आ जाओ तुम्हारा एडमिशन कर लेंगे इस तरह से कहा जाता है और समस्या पैदा की जाती है। यह लोग हमारे पैरंट्स की बातें नहीं सुन रहे हैं जब स्कूल खुला तो हम लोगों को बुलाकर कहा जा रहा है कि या तो कोर्स चेंज कर लो या तो केंपस चेंज कर लो आपके पास दो ही ऑप्शन है हम लोग 3 दिन से परेशान हैं कि हमारी बात सुन ली जाए लेकिन हम लोगों की बात नहीं सुनी गई।

 फिर हम लोगों ने अपने पैरंट्स को बुलाया गया लेकिन उनकी भी बात नहीं सुनी गई हम बच्चों की मांग थी कि हम लोगों को इकट्ठा अपने माता पिता के साथ मीटिंग करा दिया जाए लेकिन उसको इन लोगों ने नहीं कराया मना कर दिया गया काउंसलिंग के टाइम में यहां के लिए अच्छी बातें बताई गई थी लेकिन अब कुछ दिखाई नहीं दे रहा। वहीं पर एफडीडीआई के सेंटर इंचार्ज ओपी सिंह ने बताया कि मैनेजमेंट ने अच्छा निर्णय लिया है बच्चों को बताया गया वह मान भी गए थे। उनका कुछ इंटरनली ग्रुप इस प्रकार है जो इस तरह का कदम उठा रहे हैं मैनेजमेंट ने इसका निर्णय लिया है कि यहां पर बच्चे कम है इसलिए इनका फ्यूचर जहां अच्छा हो वहां इनको शिफ्ट किया जाए बच्चों को इस प्रकार का कार्य नहीं करना चाहिए क्योंकि मैनेजमेंट उनके नेगेटिव नहीं है मैनेजमेंट हमेशा उनका फेवर करता है और उनके भविष्य के लिए काम कर रहा है।