पाकिस्तान की दुनिया में थू-थू, पुतिन के बाद इमरान को ट्रंप ने बोला 'नो एंट्री प्लीज'

न्यूज 24 ब्यूरो नई दिल्ली (10 जुलाई): बिश्केक शिखर सम्मेलन में रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमीर पुतिन से हाथ मिलाने और गेस्ट गैलरी में हल्की-फुल्की बात-चीत करलेने भर से पाकिस्तान की पूरी सरकार और खुद प्रधानमंत्री इमरान खान खुश ख्याली में जीने लगे थे। इस खुश-ख्याली का आलम यह रहा कि पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने यहां तक ऐलान कर दिया कि इमरान खान को पुतिन ने खास न्यौता दिया है। उन्हें ईस्टर्न इकोनॉमिक फोरम का मुख्य अतिथि की हैसियत से रूस बुलाया जा रहा है। 

पाकिस्तान की यह खुश-ख्याली, खाम ख्याली में उस वक्त तब्दील हो गयी जब रूस ने खुद  सामने आकर कहा कि पाकिस्तान को ईस्टर्न इकोनॉमिक फोरम में बुलाया ही नहीं गया है। बहरहाल, इस बेइज्जती से दो चार हो रहे पाकिस्तान को उस वक्त और भी ज्यादा शर्मिंदा होना पड़ा जब इमरान खान के अमेरिकी दौरे पर खुद व्हाइट हाउस ने रेड सिग्नल दिखा दिया। ध्यान रहे, पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने तो इमरान खान के अमेरिकी दौरे की न केवल तारीखों का ऐलान कर दिया बल्कि खुद इमरान खान ने अमेरिका यात्रा के लिए अपने सहयोगियों से सुझाव भी मांग लिये। पाकिस्तानी विदेश मंत्रालय ने कहा था कि इमरान खान 22 जुलाई को व्हाइट हाउस में राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप से मुलाकात करेंगे।

अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पाकिस्तान की ये तीन दिन के भीतर दूसरी बड़ी बेइज्जती थी। दरअसल, इमरान खान के अमेरिकी दौरे को लेकर जो तूल दिये जा रहे थे उन पर मीडिया ने अमेरिकी प्रवक्ता से पूछ लिया कि ट्रंप और इमरान खान के बीच किन-किन मुद्दों पर बातचीत संभावित है। इस पर अमेरिकी प्रवक्ता ने कहा कि 'मेरी जानकारी के मुताबिक इमरान खान की यात्रा को व्हाइट हाउस ने अभी तक मंजूरी नहीं दी है।' अमेरिकी प्रवक्ता ने यह भी कहा कि इमरान खान की अमेरिकी यात्रा के बारे में उन्होंने भी रिपोर्ट्स देखीं हैं लेकिन यह तो व्हाइट हाउस पर ही निर्भर करता है कि वो इन रिपोर्ट्स की पुष्टि करता है या नहीं।

इससे पहले पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने तो यहां तक कह दिया था कि देश के बदहाल आर्थिक हालातों को देखते हुए वो किसी महंगे होटल के बजाए अमेरिका के किसीऔसत दर्जे के होटल में ही रुकना पसंद करेंगे। पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने यह भी ऐलान कर दिया था कि इमरानखान की अमेरिका यात्रा से दोनों देशों के बीच फिर से भरोसा कायम करने की कोशिश होगी।

Images Courtesy:Google