97 साल की उम्र में कर रहे हैं पढ़ाई, लिम्का बुक में दर्ज हुआ नाम

सौरभ कुमार, पटना (15 अप्रैल): पटना के एक बुजुर्ग विद्यार्थी राजकुमार वैश्य ने अनोखे जज्बे और पढ़ाई के प्रति रूझान से रिकॉर्ड बुक में अपना नाम दर्ज कराया। उम्र जीवन के अंतिम पड़ाव पर 97 साल के राजकुमार आज भी 4 से 5 घंटे की पढ़ाई करते हैं। बिहार के नालंदा ओपन विश्वविद्यालय से ये बुजुर्ग अर्थशास्त्र में पीजी की पढ़ाई कर रहा है और वो भी अंग्रेजी मीडियम में।


इस उम्र में अपने इसी अनोखी शुरूआत के कारण उन्होंने एक नेशनल रिकॉर्ड कायम कर दिया है। राजकुमार वैश्य को नौकरी से रिटायर हुए 37 साल हो गए हैं। रिटायरमेंट से पहले वो एक प्राइवेट कंपनी में साधारण सी नौकरी किया करते थे। समय बीतता गया और उनकी उम्र ढलती गई और फिर एक वक्त ऐसा भी आया जब उन्होंने फिर से पढ़ाई करने की ठान ली। राजकुमार के बेटे संतोष ने बताया कि 2014 में उनकी तबियत बहुत बिगड़ गई। तब परिवार के लोगों ने उनके जिंदा रहने की उम्मीदें तक छोड़ दीं तभी एक करिश्मा हुआ और राजकुमार बच गए।


बहू भारती के मुताबिक शायद भगवान को भी कुछ और हीं मंजूर था, जिसके बाद करिश्में ने राजकुमार को शिखर तक पहुंचा दिया। अपनी इस मेहनत और लगन से वो खुद खुश हैं तो उनका परिवार भी इस रिकॉर्ड से गदगद है। राजकुमार ने 97 की उम्र में पढ़ाई कर जहां एक तरफ नेशनल रिकार्ड बनाया है तो वहीं दूसरी ओर उनके फॉलोअर भी तैयार हो गए हैं। आसपड़ोस के अधिकांश लोग उन्हें दादा जी ही कहते हैं। पड़ोस में ही रहने वाले विंदेश्वर के लिए तो ये दादा जी प्रेरणास्त्रोत बन गए हैं।


राजकुमार आज समाज के लिए प्रेरणा के स्रोत है। खासकर उनके लिए जो अपनी मजबूरी को गिनाकर अपनी पढ़ाई बीच में ही छोड़ देते है। वही राजकुमार ने यह भी बताया कि लोग अपने आप को बिजी रखने के लिए अखबार पढ़ते हैं, टीवी देखते हैं, लेकिन मैंने पढाई का रास्ता चुना ताकि मैं शारीरिक और एकेडमिक दोनों तौर पर जीवित रहूं।