खुलासा! थके हुए हैं 92 फीसदी पुलिसकर्मी

नई दिल्ली (29 अगस्त): पुलिस रिसर्च एंड डवलेपमेंट ब्यूरो की स्टडी में ऐसा खुलासा हुआ है, जिसे जानने के बाद आपकी सुरक्षा खतरे में पड़ सकती है। स्टडी में खुलासा हुआ है कि इंस्पेक्टर रैंक से नीचे के ज्यादातर पुलिकर्मी काम के ज्यादा घंटों और अन्य हालातों के कारण थक जाते हैं।

कम नींद, इमरजेंसी ड्यूटी और खराब खान-पान और परिवार के साथ कम समय गुजारने के कारण चिड़चिडे़ हो जाते हैं। स्टडी के मुताबिक, वरिष्ठ अफसरों का व्यवहार, शराब और बेसिक सुविधाओं की कमी के चलते पुलिसकर्मी थकान का शिकार होता हैं। स्टडी में सामने आया है कि मानसिक और शारीरिक थकान के कारण ही पुलिसकर्मी अपना आपा जल्दी खोते हैं। इसके चलते ही वह खराब फैसले लेते हैं और काम पर ध्यान केंद्रित करने में उन्हें परेशानी होती है।

'पुलिकर्मियों की थकान पर शोध अध्ययन: कारण और उपचार' नाम की गई स्टडी राम मनोहर लोहिया हॉस्पिटल के पोस्ट ग्रेजुएट इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल एजुकेशन डिपार्टमेंट ने की। इसमें 91.79 फीसदी पुलिककर्मियों ने माना कि वह अधिक थकान महसूस करते हैं।