इन 90 लाख लोगों पर शिंकजा कसेगा इनकम टैक्स विभाग

इंद्रजीत सिंह, मुंबई (1 अगस्त): केंद्र सरकार विदेश से कालाधन लाने में भले ही सफल नहीं हो पाई, लेकिन देश में छुपे कालाधन निकालने के लिए सरकार और इनकम टैक्स डिपार्टमेंट एड़ी चोटी का जोर लगा रहा है। इसके तहत डिपार्टमेंट पूरे देश में सात लाख टैक्स चोरी करने वाले लोगों को नोटिस भेज रहा है। सरकार ऐसे लोगों को चेतावनी भी जारी कर रही है कि आप की जानकारी हमारे पास है, आप इन्कम डिक्लीयरेशन स्कीम ज्वाइन करें या 30 सितम्बर के बाद परिणाम भुगतने को तैयार रहें।

इन 90 लाख लोगों पर शिंकजा कसेगा इनकम टैक्स डिपार्टमेंट:

- अगर आपने 2009-2010 से 2016-2017 तक लग्जरी गाड़ियां खरीदी, 30 लाख तक का घर ख़रीदा, 10 लाख से ज्यादा कैश जमा किया, विदेशों में सैर की और अपना पैन कार्ड नंबर नहीं दिया तो ये मत समझिए की आपकी जानकारी इनकम टैक्स के पास नहीं है। चाहे आपने पैन नंबर दिया हो या नहीं इनकम टैक्स ने आपकी सारी जानकारी निकाल ली है। प्रधानमंत्री की  इनकम टैक्स डिक्लेरेशन स्कीम को सफल बनाने के लिए डिपार्टमेंट ने देश भर के 90 लाख लोगों की छानबीन की है, जिसमें सात लाख लोगों को डिपार्टमेंट की तरफ से नोटिस जारी किया जा रहा है। इसमें सबसे बड़ी संख्या मुम्बई से है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की इनकम टैक्स डिक्लियरेशन स्कीम को सफल बनाने के लिए आयकर विभाग एडी-चोटी का जोर लगा रहा है, लेकिन स्कीम को ठंडा रिस्पॉंस मिल रहा है। लोग आगे नहीं आ रहे, इसलिए इनकम टैक्स डिपार्टमेंट देशभर में बिजनेस समूह, बिजनेस चैम्बर से मिलकर लोगों को स्कीम के फायदे बता रहे हैं। साथ उनको बताया जा रहा है कि आपकी जानकारी हमारे पास है और अगर आप स्कीम ज्वाइन करते हैं तो 45 फीसदी टैक्स एक साल में तीन बार में भरना होगा। वर्ना अगर हम एक्शन लेंगे तो टैक्स, इंटरेस्ट और पेनाल्टी मिलकर कमाई का 78 फीसदी भरना पड़ेगा और जेल जाना पड़ सकता है।

दरअसल इनकम टैक्स डिक्लियरेशन स्कीम में अभी तक की दिक्कत ये है कि ज्यादातर लोग ये बोलते हैं कि एक साथ 45 फीसदी टैक्स चूका पाना मुश्किल है, इसके लिए डिपार्टमेंट ने एक साल का वक्त दे दिया। लेकिन लोग अभी विश्वास नहीं कर पा रहे और डर रहे हैं कि कहीं इनकम डिक्लियर करने के बाद मुसीबत न बढ़ जाये। हालांकि इनकम टैक्स डिपार्टमेंट कहता है कि ये आखिरी मौका है वर्ना 30 सितंबर के बाद मुसीबत बढ़ेगी।