9 महीने तक मां के शव के साथ रहे दो बेटे

नई दिल्ली(12 सितंबर): एक मकान में मां के शव के साथ पिछले 9 महीने  से उनके दो बेटों के रहने की हैरान कर देने वाली घटना सामने आई है। इसने पिछले साल हुए बहुचर्चित रॉबिन्सन स्ट्रीट कंकाल कांड की भयावह यादें फिर से ताजा कर दी हैं। 

- मृतका का नाम ननीबाला साहा (82) है। उनके दोनों बेटे अरुण साहा (63) और अजीत साहा (52) उनके साथ मकान में रहते थे। अरुण और अजीत दोनों अविवाहित हैं। 

-पड़ोसियों की अगर मानें तो मोहल्ले के लोगों ने पिछले कुछ समय से ननीबाला साहा को नहीं देखा था। दोनों भाइयों की गतिविधियां भी संदेहजनक थीं। वे अपने घर के सामने किसी को खड़ा नहीं होने देते थे। अगर कोई उनके घर के सामने खड़ा हो जाता था तो दोनों दुत्कार कर उसे भगा देते थे। वे अपना ज्यादातर समय घर में ही बिताते थे। इसे लेकर मोहल्लेवालों को संदेह था। 

- रविवार को वे जबरदस्ती उनके घर में घुसे। उन्होंने देखा कि ननीबाला के कमरे में अंधेरा है। मोबाइल की टार्च लाइट जलाकर वे इधर-उधर उस वृद्धा को ढूंढ़ने लगे। उन्होंने पाया कि एक चौकी पर उनका शव काले कपड़े से ढंका हुआ था। शव सड़-गलकर कंकाल में तब्दील होने की अंतिम अवस्था में पहुंच गया है। पुलिस ने घटनास्थल पर पहुंचकर शव को अपने कब्जे में ले लिया और अपनी मां के शव के साथ रह रहे दोनों बेटे अरुण साह और अजित साह को पुलिस अपने साथ पूछताछ के लिए ले गई। 

-पश्चिम बंगाल में ये घटना को नहीं है इससे पहले भी इसतरह की घटना कोलकाता के पार्क स्ट्रीट स्थित रोबिन स्ट्रीट में इस तरह की घटना सामने आ चुकी है