अमेरिका और रूस के बीच समझौते के बाद सीरिया में 82 लोग मरे

नई दिल्ली(11 सितंबर): सीरिया में जारी जंग को खत्म करने के लिए रूस और अमेरिका के बीच महत्वपूर्ण समझौता हुआ है। इस समझौते के तुरंत बाद विद्रोहियों के प्रभुत्व वाले क्षेत्र में कई हवाई और जमीनी हमले हुए। 

- इदलीब में पहले हवाई हमले और फिर अलेप्पो में भी हिंसक वारदात हुई। विद्रोहियों के कब्जे वाले इस इलाके में 82 लोगों के मारे जाने की खबर है।

- वहीं, समझौते के बाद अमेरिका के विदेश मंत्री जॉन केरी ने इसे सीरिया में हिंसक घटनाओं में स्वाभाविक कमी आने की बात कही थी। सीरिया के राष्ट्रपति बशर-अल-बसद के शांति बहाल होने के बयान के उलट शनिवार को धमाकों से एक बार फिर सीरिया के कुछ हिस्से दहल गए। प्रस्ताव के अमल में आने के दो दिन पहले हुए हमलों ने एक बार फिर विद्रोहियों के मंसूबों को जाहिर कर दिया है।

- शनिवार को सीरिया के अलेप्पो में जमीनी और हवाई हमलों में कम से कम 45 लोगों की मौत हो गई है।वहीं इदलीब शहर में विद्रोहियों के कब्जे वाले इलाके में हवाई हमलों में कम से कम 37 लोगों की मौत की खबर है। मीडिया और विपक्षी कार्यकर्ताओं के मुताबिक एक बाजार पर किए गए इस हमले में लगभग सौ लोगों के घायल होने की खबर है।

- सीरिया में शांति बहाली के लिए अमेरिका और रूस की सहमति से शनिवार को प्रस्ताव लाया गया है। प्रस्ताव के मुताबिक सोमवार से सीरिया में दस दिवसीय युद्ध विराम लागू होना है। तुर्की और यूरोपीय संघ ने इस प्रस्ताव का स्वागत किया है। सीरिया में बशर-अल-बसद के खिलाफ पांच साल पहले संघर्ष की शुरुआत हुई थी। पिछले पांच सालों में लगातार युद्ध और हिंसा में अब तक लाखों लोगों को अपना घर छोड़कर विश्व के दूसरे हिस्सों में शरणार्थी बनकर जीवन बिताना पड़ रहा है।