81 लाख आधार कार्ड हुए बंद, ऐसे चेक करें कहीं आप भी शामिल तो नहीं



नई दिल्ली (16 अगस्त): केंद्र सरकार ने 81 लाख आधार नंबर को डीएक्टिवेट कर दिया है। इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी के राज्य मंत्री पीपी चौधरी ने राज्यसभा में इसकी जानकारी दी थी। आधार नंबर कई कारणों से डीएक्टिवेट किए गए हैं जिनका जिक्र आधार (एनरॉलमेंट ऐंड अपडेट) रेग्युलेशंस, 2016 के सेक्शन 27 और 28 में है।
इसके तहत अगर किसी व्यक्ति को एक से ज्यादा आधार नंबर जारी हो गया है या उसके बायोमेट्रिक डेटा और सपॉर्टिंग डॉक्युमेंट्स में कुछ गड़बड़ी है तो उसका आधार नंबर बंद किया जा सकता है। 5 साल से पहले के बच्चे का आधार कार्ड बनवाया गया हो तो उसके 5 साल पूरा करने के 2 साल के अंदर बायोमेट्रिक डेटा अपडेट कराना होता है। ऐसा नहीं करने पर आधार नंबर डीएक्टिवेट या कैंसल हो सकता है।

कहीं आपका भी आधार नंबर तो इनऐक्टिव नहीं हो गया? ऐसे लगाया जा सकता है पता...
- UIDAI की वेबसाइट के होमपेज पर आधार सर्विस टैब पर जाएं। यहां आपको 'Verify Aadhaar Number' का एक ऑप्शन मिलेगा। इस पर क्लिक करने के बाद एक नया पेज खुल जाएगा।
- नए खुले पेज पर अपना आधार नंबर, कैप्चा डालकर वेरिफाइ बटन पर क्लिक करें। अगर हरे रंग का सही का चिह्न आता है तो आपका आधार कार्ड ऐक्टिव है।
- अगर आपका आधार कार्ड इनऐक्टिव हो गया है तो आपको जरूरी दस्तावेजों के साथ नजदीकी पंजीकरण केंद्र पर जाना होगा। आपको आधार अपडेट फॉर्म भरना होगा, जिसके बाद आपका बोयमेट्रिक डेटा अपडेट हो जाएगा। इसके लिए आपको 25 रुपये देने होंगे। इस प्रक्रिया को पूरा करने के लिए एक मोबाइल नंबर देना जरूरी होगा।
- चूंकि आधार अपडेट करने के लिए आपके बायोमेट्रिक डेटा का अपडेशन भी जरूरी होगा, इसलिए आपको व्यक्तिगत रूप से आधार सेंटर पर जाना ही होगा। यह काम ऑनलाइ या पोस्ट के जरिए नहीं हो सकता। एनरॉलमेंट सेंटर पर आपके नए बायोमेट्रिक्स को पुराने वाले से मिलाया जाएगा। अगर दोनों मैच कर जाएंगे तो आधार अपडेट हो जाएगा।