भूकंप के दो हफ्ते बाद मल्बे से जिंदा निकला 72 साल का बुजुर्ग

नई दिल्ली (1 मई): दो हफ्ते पहले आये भूकंप का मलवा में दबी जिंदगी देख कर बचाव दल को न केवल आश्चर्च हुआ बल्कि खुशी से सभी की आंखें भी छलक उठीं। ये भूकंप इक्वाडोर में आया था। भीषण भूकंप के लगभग दो सप्ताह बाद बचावकर्मियों ने एक इमारत के मलवे में कुछ हलचललसी दिखायी दी। बचावदल ने सावधानी और सतर्कता से मलवा हटा कर देखा तो वहां 72 वर्ष के एक अर्द्ध मूर्छित बुजुर्ग था।

भूकंप के तेरह दिन बाद भी एक बूढ़े इंसान को जिंदगी से संघर्ष करता देख सभी अचंभित थे। इस बुजुर्ग को मल्वे जीवित निकाले जाने की घोषणा वेनेजुएला ने की है। वेनेजुएला के क्वेटो स्थित दूतावास ने अपनी वेबसाइट पर लिखा कि इक्वाडोर के दौरे पर आए वेनेजुएला के खोजी दल ने मैनुअल वास्केज का पता लगाया। वह 7.8 तीव्रता के भीषण भूकंप के बाद से मलबे में दबे थे। बीते 16 अप्रैल को इक्वाडोर में आया यह भूकंप यहां पिछले कई दशकों का सबसे भयावह भूकंप था। इसके कारण इमारतें और सड़कें क्षतिग्रस्त हो गयीं थीं। इक्वाडोर के राष्ट्रपति राफेल ने भूकंप से प्रभावित हुए देश के पुनर्निर्माण पर आने वाले खर्च को लगभग तीन अरब डॉलर आंकते हुए इसकी अदायगी के लिए कड़े आर्थिक उपायों की घोषणा की है।