IS के चंगुल से 7 हजार और इराकी नागरिक फल्लूजा से निकल भागे

नई दिल्ली (14 जून): लगभग तीन हफ्तों से घेराबंदी किये बैठी इराकी फौजों के सुरक्षित कॉरिडोर से सात हज़ार से ज्यादा इराक़ी नागरिक भाग निकलने में सफल हो गए हैं। इराक़ में राष्ट्र संघ की उप प्रतिनिधि लिज़ ग्रैंडे का कहना है कि लोग फ़ल्लूजा से अपना सब कुछ खोकर बाहर आ रहे हैं,वे बिल्कुल ख़ाली हाथ भाग रहे हैं। उन्होंने कहा कि शहर से बाहर लगाए गए कैम्प शरणार्थियों की संख्या को देखते हुए व्याप्त नहीं हैं और शहर में स्थिति उससे कहीं अधिक ख़राब है। राष्ट्र संघ के प्रतिनिधि की सहायक ने बताया कि इराक़ी सुरक्षा बल शहर से सुरक्षित निकलने के लिए एक दूसरा कॉरिडोर बनाने का प्रयास कर रहे हैं।

दरअसल, फल्लूजा मेें फंसे नागरिकों का जीवन दोजख से भी ज्यादा दुख भरा हो गया है। आईएस के आतंकी उन्हें ढाल बनाकर बैठे हैं। अगर इराकी सुरक्षाबल गोली चलाते हैं तो वो मारे जाते हैं और अगर वो भागने की कोशिश करते हैं तो आईएस के आतंकी गोली मार देते हैं। इन परिस्थितियों नें इराकी फौजों ने सेफ कॉरिडोर बना कर नागरिकों को आखिरी लड़ाई से पहले शहर से आने को कहा है। इराकी सुरक्षा बल आईएस के आतंकिय़ों को कौने में धकेल कर एक और सेफ कॉरिडोर बनाने में लगे हैं। उसके बन जाने के बाद नागरिकों का वहां से निकलना और आसान हो जाएगा।