69000 शिक्षक भर्तीः लिखित परीक्षा में पास होने के लिए लाने होंगे इतने अंक

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (07 जनवरी): यूपी सरकार ने 69 हजार शिक्षक भर्ती की लिखित परीक्षा का कट ऑफ जारी कर दिया है। सामान्य वर्ग के अभ्यर्थियों को 65 फीसदी और आरक्षित वर्ग के अभ्यर्थियों को 60 फीसदी अंक पर पास किया जाएगा। जनवरी के आखिरी हफ्ते में शिक्षक भर्ती के आवेदन लिए जाएंगे और 15 फरवरी तक भर्ती पूरी कर ली जाएगी। अपर मुख्य सचिव डा. प्रभात कुमार ने यह जानकारी दी है।

अब सामान्य वर्ग के अभ्यर्थियों को 150 में 97 और आरक्षित वर्ग के अभ्यर्थियों को 150 में 90 अंक लाने होगे। इससे पहले सितम्बर, 2018 में हुई 68,500 शिक्षक भर्ती की लिखित परीक्षा में 45 व 40 अंक पासिंग मार्क्स तय किये गये थे लेकिन इस बार अभ्यर्थियों की संख्या देखते हुए इसे बढ़ा कर 65 व 60 फीसदी कर दिया गया है। राज्य सरकार इस बार अभ्यर्थियों की संख्या को देखते हुए इसमें पासिंग मार्क्स या कट ऑफ अंक तय करना चाहती थी ताकि बुनियादी शिक्षा की गुणवत्ता सुनिश्चित की जा सके। सोमवार देर रात मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मंजूरी के बाद कट ऑफ जारी कर दिया गया।

शिक्षक भर्ती के आवेदन करने को लेकर एनआईसी के साथ बैठक की गई। आवेदन लेने से लेकर भारांक आदि तय करने को लेकर चर्चा हुई। जनवरी के आखिरी हफ्ते तक तैयारियों को पूरा कर आवेदन लिए जा सकते हैं। इस शिक्षक भर्ती में 4.3 लाख से ज्यादा अभ्यर्थियों ने भाग लिया है और 22 जनवरी को इसका रिजल्ट आना है।

पासिंग मार्क्स तय कर देने के बाद शिक्षामित्रों के लिए मुकाबला कड़ा हो गया है। सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद शिक्षामित्रों को लगातार दो भर्तियों में मौका देना था और यह भर्ती उनके लिए आखिरी मौके के रूप में है। राज्य सरकार ने तय किया है कि शिक्षामित्रों को प्रतिवर्ष सेवा का ढाई अंक और अधिकतम 25 अंक भारांक के रूप में दिया जाएगा। माना जा रहा था कि इस बार शिक्षक भर्ती की लिखित परीक्षा देने वाले शिक्षामित्रों को 25 अंकों का भारांक मिलने के बाद नियुक्ति मिलनी तय है। लेकिन कट ऑफ जारी होने के बाद अब ऐसा नहीं होगा। लिखित परीक्षा में सफल होने वाले अभ्यर्थी ही शिक्षक भर्ती के पात्र होंगे।