देश में बिकने वाला 68 फीसदी दूध मिलावटी?

नई दिल्ली (16 मार्च): देश में बिकने वाला 68 फीसदी दूध फूड रेगुलेटर के निर्धारित मानक पर खरा नहीं उतरता। मिलावटी दूध में मिलाए जाने वाले रसायनों में बेहद आम डिटरजेंट, कास्टिक सोडा, ग्लूकोज़, सफेद पेंट और रिफाइंड तेल शामिल हैं। इन सभी को बेहद खतरनाक माना जाता है। जिनकी वजह से गंभीर बीमारियां तक हो सकती हैं। यह खुद सरकार का बयान है।

रिपोर्ट के मुताबिक, लोकसभा को गुरुवार को इस बारे में सूचित किया गया। विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री हर्ष वर्धन ने प्रश्नकाल के दौरान कहा कि एक नए स्कैनर को विकसित किया गया है, जो दूध में 40 सेकेंड के भीतर मिलावट की पहचान कर लेता है। इसके अलावा मिलावटी चीजों की पहचान भी कर लेता है। इससे पहले इस तरह की मिलावट को पकड़े जाने के लिए एक अलग तरह से कैमिकल टेस्ट किया जाता था। लेकिन अब अकेले एक स्कैनर से यह काम किया जा सकता है।