5 घंटे में 6 नवजात बच्चों की मौत

अजमेर (15 मई): अजमेर के एक अस्पताल में सिर्फ 5 घंटे में 6 नवजात बच्चों की मौत हो गई। अस्पताल की इस लापरवाही के खिलाफ बच्चों के परिजनों ने हंगामा किया। अस्पताल प्रशासन ने इस मामले में इतनी लापरवाही बरती है कि 6 बच्चों की मौत हो जाने के बाद भी कई घंटे बाद सीनियर डॉक्टरों को इसकी खबर दी गई। अब अस्पताल प्रशासन कह रहा है कि बच्चों की मौत डिहाइड्रेशन की वजह से हुई है।

एलएनएन अस्पताल के शिशु वॉर्ड में हर पचास मिनट पर एक बच्चे की मौत होती रही, लेकिन अस्पताल प्रशासन ने एक भी एहतियाती कदम नहीं उठाए। एक भी सीनियर डॉक्टर बच्चों को देखने नहीं आया। किसी का जन्म दस घंटे पहले हुआ था तो कोई 2 दिन पहले दुनिया में आया था। सारे के सारे बच्चे अस्पताल के आईसीयू में भर्ती थे। शनिवार रात एक बजे से बच्चों की मौत का सिलसिला शुरु हुआ तो सुबह के 6 बजे तक जारी रहा। इस दौरान 6 बच्चों ने दम तोड़ दिया, लेकिन अस्पताल प्रशासन की नींद नहीं टूटी। हर 50 मिनट पर एक बच्चे की मौत हो रही थी और अस्पताल के साथ डॉक्टर गहरी नींद में सोए थे। इतनी मौतों के बाद भी एक सीनियर डॉक्टरों बच्चों की मौत की वजह जानने नहीं आया।

अस्पताल के आईसीयू से हर पचास मिनट पर एक बच्चे की लाश निकल रही थी और उन्हें देखने वाला कोई नहीं था। शिशु वॉर्ड जूनियर डॉक्टर और नर्सिंग स्टाफ के हवाले था। इनलोगों ने लगातार बच्चों की मौत के बावजूद भी सीनियर डॉक्टरों को खबर नहीं दी। सबसे पहले शनिवार रात 1 बजे एक बच्चे की मौत हुई। फिर एक-एक करके बच्चे मरने लगे। रविवार सुबह 6 बजे छठे बच्चे ने दम तोड़ा और इसके 2 घंटे बाद सीनियर डॉक्टरों को खबर दी गई।

सुबह के 8 बजे अस्पताल के शिशु वार्ड के एचओडी को खबर दी गई। उस वक्त तक बच्चों के घरवालों को मौत की कोई भी वजह नहीं बताई गई थी। एकसाथ इतने बच्चों की मौत के बाद उनके परिजनों ने अस्पताल परिसर में हंगामा करना शुरु कर दिया। तब जाकर सीनियर डॉक्टरों को खबर दी गई। अब अस्पताल प्रशासन किसी भी तरह से मामले की लीपापोती में जुटा है। डॉक्टरों का कहना है कि इन बच्चों की मौत की वजह कम वजन का होना या फिर डिहाईड्रेशऩ हो सकता है। लेकिन सिर्फ 5 घंटे में 6 बच्चों की मौत की एक वाजिब वजह सामने नहीं आई है। बच्चों के परिवारवाले अस्पचाल की लापरवाही के खिलाफ कार्रवाई की मांगकर रहे हैं।