पाकिस्तान: क्वेटा के अस्पताल में ब्लास्ट, 63 की मौत, 100 घायल

नई दिल्ली (8 अगस्त):  पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रांत की राजधानी क्वेटा के एक अस्पताल में हुए बम विस्फोट में 63 लोगों की मौत हो गई। वहीं 100 लोग घायल बताए जा रहे हैं। मरने वालों में ज्यादातर वकील और पत्रकार भी शामिल हैं। ये लोग बलूचिस्तान बार एसोसिएशन के पूर्व प्रेसिडेंट एडवोकेट बिलाल अनवर को देखने पहुंचे थे, जिनकी कुछ लोगों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। 

द एक्सप्रेस ट्रिब्यून के मुताबिक अस्पताल के आपात विभाग के नजदीक गोलीबारी की आवाज अभी भी सुनाई दे रही हैं। बलूचिस्तान के गृहमंत्री सरफराज बुगती ने कहा कि, 'यह सुरक्षा चूक है और मैं व्यक्तिगत तौर पर इसकी जांच करूंगा।' क्वेटा पुलिस के मुताबिक विस्फोट के बाद एक अज्ञात व्यक्ति ने गोलीबारी भी की। ब्लास्ट के बाद क्वेटा के सभी अस्पतालों में आपात स्थिति की घोषणा कर दी गई है। बड़ी संख्या में पुलिस और सीमांत बल यहां पहुंच गए हैं और उन्होंने इलाके को खाली करवा लिया है।    विस्फोट और उससे पहले हुई गोलीबारी की जिम्मेदारी अभी तक किसी ने नहीं ली है। प्रांत की राजधानी की सीमा ईरान और अफगानिस्तान से लगती है और यह इलाका आतंकियों के निशाने पर रहता है। मई माह में बलूचिस्तान विश्वविद्यालय के मुख्य प्रवेश द्वार पर हुए विस्फोट में दो लोगों की मौत हो गई थी जबकि पांच लोग घायल हो गए थे। 

बलूचिस्तान में वकीलों को किया जा रहा है टारगेट - बलूचिस्तान में वकीलों पर पिछले कुछ महीने से लगातार हमले हो रहे हैं।  - इससे पहले 3 अगस्त को भी जहानजेब अल्वी नाम के वकील की भी कुछ हमलावरों ने हत्या कर दी थी।  - जून में बलूचिस्तान लॉ कॉलेज के प्रिंसिपल बरिस्तर अमानउल्ला की भी गोली मारकर हत्या कर दी गई थी।

बलूचिस्तान में 15 साल में 1400 से ज्यादा हमले - बलूचिस्तान में पिछले 10-15 साल में आतंकी हमले बढ़े हैं।  - पिछले 15 साल में शिया कम्युनिटी को टारगेट करके 1400 से ज्यादा हमले हो चुके हैं। - बलूचिस्तान में 13 साल में करीब 38 सुसाइड अटैक हो चुके हैं। - क्वेटा शहर में 2016 में 36 आतंकी हमले हुए हैं, इनमें 119 लोगों की मौत हुई।