मध्य प्रदेश: 5 साल की बच्ची को बचाने के लिए आगे आई सरकार

नई दिल्ली ( 16 अप्रैल ): मध्यप्रदेश के गुना जिले के तारापुर गांव में बंजारा समाज की पंचायत ने एक पिता को सजा के तौर पर उसकी पांच साल की बेटी की शादी एक आठ साल के लड़के से कराने का फरमान सुनाया है। बच्ची के माता-पिता ने पंचायत से गुहार भी लगाई कि ऐसी सजा न दी जाए, लेकिन कोई भी उनके साथ नहीं आया।


अब इस मामले में मध्य प्रदेश सरकार ने गुना में 5 साल की बच्ची की शादी 12 साल के लड़के से कराए जाने के पंचायत के तुगलकी फरमान पर कड़ा कदम उठाने का फैसला किया है। सरकार का कहना है कि अगर इस आदेश का पालन किया गया तो पूरे गांव के खिलाफ एफआईआर दर्ज की जाएगी। बच्ची के पिता पर 3 साल पहले बछड़े को मारने का आरोप है। गांव वालों का मानना है कि 3 साल से गांव में कोई मंगलकार्य इसी वजह से नहीं हो रहा और उन्होंने पंचायत बुला कर यह शर्मनाक फैसला सुनाया।


लड़की के पिता जगदीश बंजारा ने कथित रूप से 3 साल पहले अपने खेत में चर रहे एक बछड़े को पत्थर मारा था जिससे उसकी मौत हो गई। इस घटना के बाद गांव वालों ने उनके पूरे परिवार का सामाजिक बहिष्कार कर दिया। उनसे गंगा में नहाने और गांव वालों में खाना बांटने को भी कहा गया।


पंचायत के मुताबिक जबसे बछड़े की मौत हुई है तब से गांव में कुछ भी मंगलमय नहीं हो रहा है। इस तरह पश्चाताप के तौर पर पंचायत ने जगदीश को उसकी 5 साल की बेटी की शादी एक 12 साल के लड़के से करने का फरमान सुनाया। इस नाइंसाफी के खिलाफ लड़की की मां ने आवाज उठाते हुए एसडीएम के यहां शिकायत दर्ज कराई है।


इधर, एडीएम ने कहा, 'हमने मामले की जांच के लिए टीम को गांव भेजा है। मामले की पुष्टि होने पर कि लड़की के पिता पर बेटी की शादी 12 साल के लड़के से कराने का दबाव बनाया गया, तब हमने धारा 107/16 के तहत कार्रवाई की।' उन्होंने कहा, 'हमने कहा है कि अगर लड़की की शादी कराने की कोशिश की गई, तब पूरा गांव के खिलाफ एफआईआर की जाएगी।'