पासपोर्ट को लेकर हैरान करने वाला आंकड़ा आया सामने

नई दिल्ली(24 जुलाई): पासपोर्ट को लेकर एक हैरान करने वाला आंकड़ा सामने आया है। आजादी के 70 साल बाद भी अभी सिर्फ 5.15 पर्सेंट भारतीयों के पास पासपोर्ट है। यानी लगभग 132 करोड़ की आबादी में से केवल 6.8 करोड़ लोगों के पास। ताजा सरकारी आंकड़ा यही है। यह हाल पिछले 5 वर्षों में पासपोर्ट से जुड़ी सुविधाओं में बढ़ोतरी होने और कई रिफॉर्म्स करने के बाद है।

- विदेश मंत्रायल की ओर से जुटाए गए आंकड़ों के मुताबिक, नए और रिन्यू किए गए सहित कुल पासपोर्ट्स में से लगभग आधे तो पिछले तीन वर्षों में जारी किए गए।

- पासपोर्ट धारकों की इतनी कम संख्या की एक वजह पहले के कड़े नियम और पासपोर्ट सेवा केंद्रो की बेहद कम संख्या हो सकती है। 

- रीजनल पासपोर्ट ऑफिसर पारसनाथ चंद्रन ने बताया कि नए नियम से नागरिकों के लिए पासपोर्ट बनवाना काफी आसान हो गया है। उन्होंने कहा, 'नए नियमों से बिचौलिये अप्रासंगिक हो गए हैं। इनसे पासपोर्ट इश्यू करने करने वाले अधिकारियों के मनमानी करने की गुंजाइश भी काफी कम हो गई है।' 2016 में 85 पर्सेंट तत्काल पासपोर्ट तीन दिन के अंदर इश्यू किए गए। इनमें से 36 पर्सेंट तो एक दिन में इश्यू हुए, जबकि 86 पर्सेंट सामान्य पासपोर्ट में हफ्ते भर से अधिक का समय नहीं लगा। इनमें से भी 51 पर्सेंट तीन दिन के अंदर इश्यू किए गए।

- विदेश मंत्रालय का दावा है कि पासपोर्ट इश्यू करने के मामले में भारत अब चीन और अमेरिका के बाद दुनिया में तीसरे नंबर पर है। हर साल बड़ी संख्या में पासपोर्ट एक्सपायर होते हैं। उससे भी इसकी ग्रोथ कम दिख रही है। 2014 से 2016 के बीच 1.3 करोड़ पासपोर्ट एक्सपायर हुए, जबकि इस दौरान 2.93 करोड़ नए पासपोर्ट इश्यू किए गए। वहीं, बहुत कम भारतीय विदेश जाने की हैसियत रखते हैं। पर्यटन मंत्रालय के आंकड़े के मुताबिक, 2015 में 2.03 करोड़ भारतीय विदेश गए। खाड़ी देशों में रोजगार के मौके घटने से भी पासपोर्ट की मांग पर असर पड़ा है।