5 लाख लोगों से सीधा संवाद करेंगे सीएम केजरीवाल

नई दिल्ली(30 अक्टूबर): दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने लेटर के जरिए दिल्ली की जनता से सीधा संवाद करने का सिलसिला शुरू किया है। सीएम ने दिल्ली विद्युत बोर्ड के पेंशनधारकों और ईडब्ल्यूएस कैटिगरी में ऐडमिशन पाने वाले बच्चों को लेटर लिखा है। 

- सीएम ने कहा है कि अगर कोई भी परेशानी आ रही है तो वे ईमेल या फोन के जरिए सीएम हाउस तक अपनी बात पहुंचा सकते हैं। उनकी समस्याओं को दूर करने के लिए फौरन जरूरी कदम उठाए जाएंगे।

- सीएम आने वाले दिनों में 5 लाख से ज्यादा लेटर लिखकर जनता के साथ सीधा संवाद करेंगे। अभी तक करीब 40 हजार लोगों को लेटर भेजे जा चुके हैं। 

- दिल्ली में ईडब्ल्यूएस कैटिगरी में ऐडमिशन पाने वाले 31 हजार से ज्यादा बच्चों के पैरंट्स को लेटर लिखा जा रहा है। इसके अलावा ओल्ड एज पेंशन, डिसेबिलिटी पेंशन समेत दूसरी स्कीम्स में पेंशन पाने वाले 5 लाख लोगों को भी लेटर लिखा जा रहा है।

- ईडब्ल्यूएस कैटिगरी में ऐडमिशन पाने वाले बच्चों के पैरंट्स को लिखे लेटर में सीएम ने बधाई देते हुए कहा है कि एक जमाना था जब स्कूलों में दाखिले के लिए दलालों को हजारों रुपये देने पड़ते थे और धक्के खाने पड़ते थे लेकिन आम आदमी पार्टी सरकार ने सिस्टम को बदल दिया है। अब प्राइवेट स्कूलों में ईडब्ल्यूएस कैटिगरी में गरीब बच्चों का आसानी से ऐडमिशन हो रहा है और इसके लिए कोई रिश्वत नहीं देनी पड़ रही है। दिल्ली में ईमानदार सरकार है और सरकारी कामों में रिश्वतखोरी खत्म हुई है। सीएम ने पैरंट्स से पूछा है कि आपको अपने बच्चे का दाखिला कराने के लिए किसी को पैसे तो नहीं देने पड़े? अगर कोई भी समस्या है तो सरकार तक शिकायत पहुंचाई जा सकती है।

- पेंशनधारकों को लिखे लेटर में सीएम ने कहा है कि दिल्ली सरकार अपने बुजुर्गों और पेंशनधारकों का सम्मान करती है। पेंशनधारकों की ढेरों समस्याएं थीं और उन समस्याओं का समाधान करने की पूरी कोशिश की है। दिल्ली विद्युत बोर्ड के पेंशनधारकों को सीएम ने कहा है कि पेंशनधारकों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं देने के लिए सरकार ने बड़े कदम उठाए हैं। आप सरकार ने किडनी, हार्ट, कैंसर, न्यूरो और गंभीर बीमारियों से जूझ रहे पेंशनधारकों की मदद के लिए 20 चुने हुए बड़े प्राइवेट अस्पतालों में बिना पैसे जमा करवाए उपचार करवाने की सुविधा बहाल की है। पेंशन ट्रस्ट की हालत सुधारने के लिए भी फैसले लिए गए हैं और पेंशनधारकों को अपना पैसा समय पर मिल पाएगा।