पांच की पंचायत: तेल के नाम पर जनता से एक पैसे का मजाक क्यों?