ये हैं पांच वो आतंकी जो ब्रिटेन से हुए फरार

नई दिल्ली (7 जनवरी): अबु रुमायसाह उर्फ सिद्धार्थ धर की तरह ब्रिटेन से पांच और संदिग्ध आतंकी ब्रिटेन से फरार हो चुके हैं। 'द इंडिपेंडेंट' के मुताबिक यह खबर फैलते ही पूरे ब्रिटेन में खलबली मच गयी है और सुरक्षा एजेंसियों की नींद हराम हो गयी है।

ब्रिटेन के लोग डेविड कैमरून सरकार और खुफिया एजेंसियों की निंदा कर रहे हैं। अबु रुमायसाह उर्फ सिद्धार्थ धर की तरह फरार होने वाले आतंकियों में पहला नाम 32 साल का अबु रहीन अज़ीज़ है। यह भी मुस्लिम्स अगेंस्ट क्रूसेडर्स का प्रमुख सदस्य है। ऐसी जानकारी मिली है कि रहीन ने सीरिया पहुंच कर सिद्धार्थ धर से मुलाकात भी की है। दूसरा नाम 21 साल के बरमिंघम यूनिवर्सिटी के स्टूडेंट जुनैद हुसैन का है।

यह भी बेल पर अदालत से रिहा हुआ था। खुफिया एजेंसियों की आंखों में धूल झौंक कर ये भी ब्रिटेन से फरार हो गया था। ऐसा माना जाता है कि पिछले साल अगस्त में उसकी मौत हो गयी। तीसरा शख्स नेशनल हेल्थ सर्विसेज का सर्जन डॉक्टर मिर्जा तारिक अली है।

अदालत ने मिर्जा का  पासपोर्ट भी जब्त कर लिया था। इसके बावजूद तारिक फरार हो गया। वो भी सीरिया पहुंच गया था, लेकिन वो एक ड्रोन हमले में मारा जा चुका है। क्रिश्चियन से कन्वर्ट होकर मुस्लिम बने सीमोन कीलर और अबु ईजादीन को ब्रिटिश खुफिया अधिकारियों ने आतंकवादी संगठनों की मदद करने और उनके लिए चंदा जुटाने के आरोप में गिरफ्तार किया था। ये दोनों भी बेल पर रिहा हुए थे।

इनके बारे में जानकारी है कि ये दोनों तीन महीने पहले ही फरार हुए हैं। इन सिद्धार्थ समेत ये सभी छह आतंकवादी प्रतिबंधित संगठन अल-मुजाहिरों के सक्रिय सदस्य थे।