'49,000 आधार एनरोलमेंट ऑपरेटर ब्लैक लिस्टेड'

नई दिल्ली ( 12 सितंबर ): केंद्र सरकार ने सभी सरकारी योजनाओं को, मोबाइल नंबर को, पैन कार्ड जैसे जरूरी दस्तावेजों को आधार से जोड़ना अनिवार्य कर दिया है। सरकार ने आधार को जरूरी दस्तावेज बना दिया है। ऐसे में आधार बनवाना सबके लिए महत्वपूर्ण हो गया। सरकार ने आधार बनवाने के लिए कोई शुल्क नहीं रखा है, लेकिन कई आधार केंद्र लोगों से आधार पंजीकरण के लिए फीस लेते हैं।

कुछ दिन पहले खबर आई थी कि आधार इनरोलमेंट सेंटर्स, खुलेआम नियमों का उल्लंघन कर रहें हैं। इसके बाद भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण ने कहा है कि 'हमें यह पता चला है कि इस तरह के उल्लंघन लगातार हो रहा था। इस कारण हमने 49000 से अधिक आधार अॉपरेटरों को ब्लैकलिस्ट कर दिया है।'

भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण के सूत्रों ने बताया कि हमें स्वतंत्र रुप से बड़ी संख्या में ऐसे रिपोर्ट्स मिले थे कि कुछ आधार सेंटर्स लोगों से ज्यादा पैसे वसूल कर रहे हैं। इसलिए हमने उन सेंटर्स पर कार्यवाही की।

भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकरण ने बताया कि जो भी अॉपरेटर या सुपरवाइजर गलत कार्य करते हुए पाया जायेगा उसे हम सिस्टम से पांच साल के लिए ब्लैकलिस्ट करेंगे। इसके अलावा इनरॉलमेंट करने वाली एजेंसी पर भी 50000 का जूर्माना लगेगा तथा और भी कानुनी कार्यवाही की जायेगी।

प्राधिकरण ने कहा कि वह लोगों के आधार संबंधी किसी भी प्रकार के परेशानियों को हल करने के लिए तत्पर है और जो भी कानुन का उल्लंघन करेगा उस पर कड़ी कार्यवाही की जायेगी।

सूत्रों ने बताया कि जून में सभी इनरॉलमेंट सेंटर्स को यह निर्देश दिये गये थे कि वो अपने सेंटर्स को सरकारी स्वामित्व वाले परिसर में स्थानांतरित करें।