लैम्बॉर्गिनी से भी तेज़ है यह 42 साल पुरानी इलेक्ट्रिक कार

ये कार 42 साल पुरानी है, बैटरी पर चलती है लेकिन इसकी ताकत और फुर्ती इतनी ज्यादा है कि यह निसान जीटी-आर, लैम्बॉर्गिनी एवंताडोर, मैक्लॉरेन 650 एस और ऑडी आर-8 जैसी फुर्तीली कारों को पछाड़ने की ताकत रखती है। इस कार का नाम है फ्लक्स कैपेसिटर.. कुछ अजीब सा लगा न यह नाम, तो पूरा मामला जानने के लिए बढ़ते हैं आगे...

दरअसल फ्लक्स कैपेसिटर नाम की यह कार बनी है पुरानी इलेक्ट्रिक कार एनफील्ड-8000 पर। इसे एक ब्रिटिश कंपनी ने बनाया था। यह शहर में यातायात के मकसद से बनी दो सीटों वाली कार थी। इसमें आठ पीएस की ताकत देने वाली छह किलोवॉट की मोटर लगी थी। कार की टॉप स्पीड 77 किलोमीटर प्रति घंटा थी। ऐसी केवल 120 कारें ही बनी थीं।

जिस फ्लक्स कैपेसिटर की यहां बात हो रही है, वो कार मशहूर ऑटो जर्नलिस्ट और टीवी प्रजेंटेटर जॉनी स्मिथ की है। उनकी यह कार बाढ़ की वजह से खराब हो गई थी। कार का ओरिजनल रूप बरकरार रखते हुए जॉनी ने इसे री-स्टोर किया। इसके इलेक्ट्रिक सर्किट बोर्ड को नए टेक्नोलॉज़ी वाले सर्किट बोर्ड से बदला। बॉडी को फाइबर ग्लास से बनाया और पावर देने के लिए इसमें 188 लिथियम आयन बैटरी का इस्तेमाल किया। यह बैटरी 2000 एंपियर की पावर देती है। इसमें लगी 9 इंच की मोटर पिछले पहियों को पावर देती है।

अब इस छोटी सी कार की पावर पहले के मुकाबले 100 गुना ज्यादा यानी 800 पीएस है और टॉर्क 1627 एनएम का है। 0 से 161 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार यह 6 सेकंड से भी कम वक्त में पा लेती है। इलेक्ट्रिक होने की वजह से टॉर्क डिलिवरी बराबर रहती है।

इस तरह जॉनी की फ्लक्स कैपेसिटर सड़क पर चलने वाली सबसे तेज़ और फुर्तीली इलेक्ट्रिक कार है। 9.86 सेकंड में 195 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार का रिकॉर्ड इसके नाम है।

कारदेखो

लैम्बॉर्गिनी से भी तेज़ है यह 42 साल पुरानी इलेक्ट्रिक कार