अब 4000 साल पुरानी ममी की बढ़ेगी उम्र

नई दिल्ली ( 25 दिसंबर ): इंडियन म्यूज़ियम कोलकाता में रखी गई ममी को करीब 4000 वर्ष पुरानी बताई जाती है। इसे सन् 1882 में मिस्त्र से लाया गया था। अब इसे लंबे समय तक सुरक्षित रखने के लिए मुंबई के छत्रपति शिवाजी महाराज वास्तु संस्थान (सीएसएमवीएस) का सहयोग लिया जाएगा।

दरअसल शनिवार को विदेश राज्य मंत्री एमजे अकबर ने म्यूज़िम की इजिप्ट गैलरी का दौरा किया। इस दौरान वह ममी को सहेजने के तरीके से असंतुष्ठ दिखे। उन्होंने म्यूज़ियम अथॉरिटी से ममी की सुरक्षा को लेकर कई सवाल किए। तब जाकर ममी की सुरक्षा को लेकर म्यूज़ियम अथॉरिटी की नींद खुली।

यह ममी म्यूज़ियम की इजिप्ट गैलरी में रखी गई है। इसे एक स्पेशल कैबिनेट में रखा गया है। म्यूज़ियम अथॉरिटी का दावा है कि यह कैबिनेट इस ममी को क्षति से बचाता है। लेकिन इससे अधिक इस ममी की सुरक्षा या इसे लंबे वक्त तक सहेजने के लिए किसी तरह के प्रयास नहीं किए गए। न ही कभी इसकी स्थिति का आंकलन किया गया। म्यूज़ियम अथॉरिटी का कहना है कि अब इस गैलरी को रिनोवेशन की जरूरत है। साथ ही विशेषज्ञों की देखरेख में ममी को भी सही तरीके से सहेजा जा सकेगा।

म्यूज़ियम अथॉरिटी ने इजिप्ट गैलरी को सहेजने के लिए नेशनल म्यूज़ियम और नेशनल म्यूज़ियम रिसर्च लैबोरेट्री फॉर कंजर्वेशन, लखनऊ से मदद लेने का फैसला किया है। इसके बाद सीएसएमवीएस के एक्सपर्ट्स की मदद से ममी की सही स्थिति जांचने और बेहतर संरक्षण के लिए मदद ली जाएगी। म्यूज़ियम डायरेक्टर जयंत सेन गुप्ता के मुताबिक ' ममी के कैबिनेट का एक माइक्रो क्लाइमेट सेट है। जिसमें हम कोई बदलाव नहीं कर सकते। गैलरी का रिनोवेशन हमारी प्राथमिकता है। जिसमें तकरीबन 2 साल का वक्त लगेगा।'