40 महिलाओं ने सीएम योगी को भेजी राखी, तीन तलाक को लेकर मांगा न्याय

लखनऊ(5 अगस्त): तीन तलाक और घरेलू हिंसा से पीड़ित कम से कम 40 महिलाओं ने उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ को राखी भेजकर न्याय की मांग की है। 

- खुद को 'देश की बहनें' बताते हुए इन महिलाओं ने कहा है कि मुख्यमंत्री को न्याय दिलाते हुए अपने भाई होने का अपना दायित्व पूरा करना चाहिए। 

- तीन तलाक का शिकार हुईं 22 वर्षीय ईशा खान ने सीएम को पीले रंग की राखी भेजी। उन्होंने कहा, 'अपने देवर और ननद से परेशान होकर मैंने अपने पति से उनकी शिकायत की, लेकिन मदद करने की बजाय उसने मुझे तीन तलाक दे दिया। बीजेपी ने चुनाव से पहले मुझ जैसी औरतों की मदद का वादा किया था। इस राखी की मदद से मैं सीएम को उनके वादे की याद दिलाना चाहती हूं।' 

- 27 साल की फरहाना ने भी योगी आदित्यनाथ को राखी भेजी। बेटी के जन्म के बाद फरहाना के पति ने तीन तलाक दे दिया था। उन्होंने बताया, 'मेरे पति बेटा चाहते थे, लेकिन बेटी होने के बाद उन्होंने मुझे तीन तलाक दे दिया और सउदी अरब चले गए। उनके जाने के बाद ससुराल वालों ने मुझे और बेटी को धक्के देकर भगा दिया। जब मैं उनके पास वापस गई तो उन्होंने मुझे देवर के साथ निकाह हलाला करने को कहा, जिसे मैंने स्वीकार नहीं किया। इस रक्षाबंधन मैं योगी आदित्यनाथ को राखी भेज अपनी इस मुसीबत का अंत करना चाहती हूं।' 


- मेरा हक नाम के एक एनजीओ की मदद से इन औरतों ने सीएम योगी को राखी भेजी। एनजीओ के प्रेजिडेंट फरहत नकवी ने कहा, 'कई महिलाओं ने स्थानीय पुलिस स्टेशन में एफआईआर करवा रखी है, जिसको वापस करने को लेकर ससुराल पक्ष की तरफ से दबाव और धमकी दी जा रही है। इनके पास अपना कोई ठिकाना नहीं और न ही कोई सुरक्षा है। इसलिए ये सभी योगी आदित्यनाथ से भाई का फर्ज पूरा करने की गुहार लगा रही हैं।'