अब नहीं बच पाएगा पाकिस्तान, फ्रांस से भारत खरीदेगा 3000 एंटी टैंक मिसाइल

Photo: Google 

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (21 जनवरी): पाकिस्तान और चीन के खतरनाक मंसूबों को देखते हुए केंद्र सरकार ने सेना को मजबूत बनाने के लिए फ्रांस से 3,000 से ज्‍यादा एंटी-टैंक गाइडेड मिसाइल खरीदने की योजना बनाई है। न्‍यूज एजेंसी एएनआई से मिली जानकारी के मुताबिक, सेना इन मिसाइलों को अपनी इंफ्रेंट्री यूनिट्स को और ज्‍यादा ताकतवर बनाने के मकसद से खरीदने की तैयारी में है।

एएनआई ने कहा, ''सेना फ्रांस से 3,000 से ज्‍यादा मिलान 2टी एंटी-टैंक गाइडेड मिसाइल फ्रांस से खरीदना चाहती है। भारत ने पिछले वर्ष इजरायल से खरीदी जाने वाली स्‍पाइक मिसाइलों को खरीदने का प्‍लान कैंसिल कर दिया था। भारत ने यह कदम इसलिए उठाया था, क्‍योंकि देश में ही एंटी-टैंक गाइडेड मिसाइल तैयार करने के प्रोग्राम को आगे बढ़ाने का इरादा सरकार ने किया है।''

रिपोर्ट के मुताबिक, यह डील 1,000 करोड़ से भी ज्‍यादा की होगी। इस दिशा में रक्षा मंत्रालय की ओर से तैयार प्रस्‍ताव को जल्‍द ही एक हाई-लेवल मीटिंग में पेश किया जाएगा। इस प्रस्‍ताव में मिलान 2टी एंटी-टैंक गाइडेड मिसाइल (एटीजीएम) की सेकेंड जनरेशन की मिसाइलों को खरीदने का प्रस्‍ताव होगा। इन मिसाइलों को भारत डायनामिक्‍स लिमिटेड (बीडीएल) के लाइसेंस के तहत प्रोड्यूस किया जाएगा। बीडीएल एक फ्रेंच कंपनी के साथ मिलकर इनका निर्माण करेगी। इंडियन आर्मी को करीब 70,000 एंटी-टैंक गाइडेड मिसाइलों की जरूरत है। इसके अलावा सेना को 850 प्रकार के लॉन्‍चर्स की जरूरत होगा।

सेना की नजरें इस समय तीसरी पीढ़ी की एटीजीएम मिसाइलों पर भी हैं, जिनकी रेंज ज्‍यादा है। सूत्रों की ओर से बताया गया है सेना को देश में तैयार तीसरी पीढ़ी की एटीजीएम मिलने वाली हैं। इन मिसाइलों के मिलने से पहले जो खाली स्‍थान होगा मिलान 2टी एटीजीएम उसी खाली स्‍थान को भरेगी। मिलान-2 की रेंज दो किलोमीटर से ज्‍यादा है। भारत ने पिछले वर्ष इजरायल से खरीदी जाने वाली स्‍पाइक मिसाइलों को खरीदने का प्‍लान कैंसिल कर दिया था। भारत ने यह कदम इसलिए उठाया था क्‍योंकि देश में ही एंटी-टैंक गाइडेड मिसाइल तैयार करने के प्रोग्राम को आगे बढ़ाने का इरादा सरकार ने किया है।