13 हजार सैलरी वाले मजदूर के खातों से 30 करोड़ रुपये का कारोबार

नई दिल्ली(21 दिसंबर): लाइनमैन की नौकरी करने वाले नंदू का वेतन 13 हजार रुपये है। वह पीतमपुरा में काम करता है। खाते में करोड़ों का लेनदेन पर उसने कुछ भी कहने से इनकार किया। पूछताछ से वह इन दिनों परेशान है। उसकी समझ नहीं आ रहा है कि किसने उसके नाम पर करोड़ों का लेनदेन किया है।

नंदू मामले में 30 करोड़ रुपये का लेनदेन मिलने के बाद सेक्टर-49 थाने में दर्ज केस की जांच पुलिस की अपराध शाखा को सौंपी जा सकती है। फर्जीवाड़े के ऐसे मामले जिनमें धनराशि 50 लाख रुपये से ज्यादा होती है उसमें जांच अपराध शाखा से ही कराई जाती है।

नोएडा विनीत कुमारनोएडा के सेक्टर-51 स्थित एक्सिस बैंक में मजदूर नंदू पासवान के नाम पर दो खाते खुलवा साल भर में 30 करोड़ का कारोबार किया गया। 100 से ज्यादा कंपनियों ने इनसे लेनदेन किया। इसका खुलासा आयकर की जांच में हुआ।

हवाला से जुड़ रहे तार : नंदू को हिमानी इंटरनेशनल प्राइवेट लिमिटेड कंपनी का निदेशक दिखाकर जनवरी में चालू खाता और मार्च में बचत खाता खोला गया। आयकर अधिकारी मान रहे हैं कि नंदू के खाते में किए गए लेनदेन के मास्टरमाइंड हवाला कारोबार से जुड़े हुए हैं। इनका नेटवर्क एनसीआर के साथ ही पश्चिम बंगाल, गुजरात और महाराष्ट्र तक फैला है।

15 दिसंबर को आयकर विभाग ने इस बैंक में छापा मारकर फर्जी खाते से करोड़ों के लेनदेन से जुड़े दस्तावेज हासिल किए थे। इस खाते में 29 नवंबर तक 28 करोड़ का लेनदेन हुआ। उसी बैंक में 15 मार्च को खोले गए नंदू के बचत खाते से 2.16 करोड़ का लेनदेन हुआ है।

कंपनी के खाते में ऑनलाइन, आरटीजीएस या एनईएफटी के जरिए लेनदेन होता था। इस खाते में 19 लाख, 10 लाख, आठ लाख , 12 लाख , तीन लाख रुपये की धनराशि का लेनदेन है। सबसे बड़ी प्रविष्टि खाते में मार्च माह में 19 लाख रुपये की हुई है। अक्तूबर तक अधिकांश धनराशि खाते में आई जबकि नवंबर में अधिकांश धनराशि दूसरे खातों में स्थानांतरित की गई।