गोरखपुर बाल संहार: 126 दिन पहले ही सीएम योगी को बता दिए थे हालात


वीरेंश पांडे, गोरखपुर (13 अगस्त): गोरखपुर के बीआरडी मेडिकल कॉलेज के बाल संहार पर बड़ा खुलासा हुआ है। न्यूज़ 24 के पास अस्पताल में लिक्विड ऑक्सीजन सप्लाई करने वाली कंपनी की वो चिट्ठी है, जिसकी कॉपी मुख्यमंत्री को भेजी गई थी। अब से 126 दिन पहले ही कंपनी ने सीएम को ये बात बता दी थी।

इस चिट्ठी में सीएम योगी को बता दिया गया था कि अगर पेंडिंग बिल का भुगतान जल्द नहीं होता है तो हॉस्पिटल में ऑक्सीजन की सप्लाई रुक सकती है। बावजूद इसके इसे गंभीरता से नहीं लिया गया। कंपनी ने बीआरडी मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल की लिखी गई चिट्ठी की कॉपी सीएम को भेजी थी।

न्यूज़ 24 के पास वो एक्सक्लूसिव रिमाइंडर है, जिसे बाबा राघव दास अस्पताल में लिक्विड ऑक्सीजन सप्लाई करने वाली कंपनी पुष्पा सेल्स ने बीआरडी मेडिकल कॉलेज के प्रिंसिपल को भेजा था। 6 अप्रैल 2017 को भेजे गए इस रिमाइंडर पर इसकी कॉपी मुख्यमंत्री, उत्तर प्रदेश को भी भेजने की बात लिखी गई है।

126 दिन पहले मुख्यमंत्री के दफ्तर को साफ-साफ बता दिया गया था कि अगर बकाए बिल का पेमेंट नहीं किया गया तो ऑक्सीजन सप्लाई नहीं मिल पाएगी। बावजूद इसके 10 और 11 अगस्त को ऑक्सीजन की कमी से 30 से भी ज्यादा बच्चों की मौत हो गई। इस रिमाइंडर में साफ लिखा गया है कि 3 अप्रैल 2017 तक अस्पताल पर 52 लाख 34 हजार 774 रुपए का बकाया है और अगर पेंडिंग बिल का भुगतान नहीं हुआ तो फिर सप्लाई नहीं मिल पाएगी।

पुष्पा सेल्स ने इस रिमाइंडर की कॉपी मुख्यमंत्री के साथ ही स्वास्थ्य मंत्री, प्रमुख सचिव- मेडिकल एजुकेशन, स्वास्थ्य सेवा महानिदेशक और बीआरडी मेडिकल कॉलेज के अधिकारियों को भेजी थी। अब सवाल है कि क्या मुख्यमंत्री कार्यालय को इसकी जानकारी नहीं थी और अगर थी तो इसे गंभीरता से क्यों नहीं लिया गया ?