छवि सुधारने में लगी सरकार, बोली- ऑक्सीजन की कमी से नहीं हुई मौतें


नई दिल्ली (11 अगस्त):
सीएम योगी के संसदीय क्षेत्र में ऑक्सीजन की कमी से 30 बच्चों की मौत होने के बाद सरकार ने अपनी छवि को सुधारने के लिए मोर्चा संभाल लिया है। गोरखपुर के डीएम ने मीडिया के सामने आते हुए दावा किया है कि किसी भी बच्चे की मौत ऑक्सीजन की कमी से नहीं हुई है।

डीएम ने मीडिया को बताया कि उन्हें अस्पताल प्रबंधन ने जानकारी दी है कि कल रात 12 बजे से अभी तक 7 मौतें हुई हैं। कल रात को 12 बजे से पहले 14 मौतें हो चुकी हैं। परसों रात से लेकर अभी तक 30 बच्चों की मौत हो चुकी है। उन्होंने बताया कि डॉक्टरों का कहना है कि उनके पास ऑक्सीजन का विकल्प था और इसके कारण किसी भी बच्चे की मौत नहीं हुई है। ऑक्सीजन सप्लाई बंद होने के बाद संत कबीर नगर से सिलेंडर मंगाए गए और अभी भी वहां पर 50 सिलेंडर मौजूद हैं।

आपको बता दें कि गोरखपुर के बीआरडी अस्पताल में ऑक्सीजन खत्म होने से 30 बच्चों की मौत हो गई है। मरने वालों में 10 बच्चे एनएनयू वार्ड और 10 इंसेफेलाइटिस वार्ड में भर्ती थे। बताया जा रहा है कि 66 लाख रुपये का भुगतान न होने की वजह से फर्म ने ऑक्सीजन की सप्लाई ठप कर दी थी। लिक्विड ऑक्सीजन तो गुरुवार से ही बंद थी और आज सारे सिलेंडर भी खत्म हो गए। इंसेफेलाइटिस वार्ड में मरीजों ने दो घंटे तक अम्बू बैग का सहारा लिया। बीआरडी अस्पताल में दो साल पहले लिक्विड आक्‍सीजन का प्‍लांट लगाया गया था। इसके जरिए इंसेफेलाइटिस वार्ड सहित करीब तीन सौ मरीजों को पाइप के जरिए आक्‍सीजन दी जाती है।