नेपाल में तीन पर देशद्रोह का आरोप, अलग मधेस की मांग पर कराया था 'जनमत संग्रह'

काठमांडू (5 जनवरी) : नेपाल सरकार ने ‘स्वतंत्र मधेस’ की मांग को लेकर मॉक (छद्म) जनमत संग्रह कराने वाले तीन मधेसी कार्यकर्ताओं के खिलाफ देशद्रोह के आरोप लगाए हैं। नेपाली अधिकारियों ने बताया कि ये तीनों दक्षिणी नेपाल में ऐसा जनमत संग्रह कराने में शामिल थे कि दक्षिणी मैदानी इलाके को एक स्वतंत्र राज्य घोषित किया जाए या नही। बता दें कि दक्षिणी मैदानी इलाके में मधेसियों की बहुलता है।

तीनों मधेसी कार्यकर्ताओं को दक्षिणी नेपाल के सिराहा ज़िले में 2 जनवरी को गिरफ्तार किया गया। वहां से तीनों को काठमांडू लाया गया जहां विशेष अदालत में तीनों पर आरोप लगाए गए।

सिराहा जिले में 26 दिसंबर को कराए गए छद्म जनमत संग्रह में इन तीनों कार्यकर्ताओं में से 60 वर्षीय चंदेश्वर महतो ने एक अंतरराष्ट्रीय पर्यवेक्षक और 26 वर्षीय सुदीप राज कुशवाहा निर्वाचन अधिकारी के रुप में काम किया। गिरफ्तार एक और शख्स बिष्णु देव चौधरी जिले से एलायंस फॉर इंडिपेंडेंट मधेस के केंद्रीय सदस्य हैं।